Home Apradh Samachar लखनऊ कोर्ट के अंदर धड़ाधड़ चले देशी बम, पुलिस बनी मूकदर्शक

लखनऊ कोर्ट के अंदर धड़ाधड़ चले देशी बम, पुलिस बनी मूकदर्शक

97
लखनऊ कोर्ट बम, अधिवक्ता संजीव लोधी, bomb-attack-on-advocate-in-lucknow-court

thegandhigiri-news-app-may-2020

लखनऊ: यूपी की राजधानी लखनऊ की वजीरगंज कोर्ट में देशी बम से एक अधिवक्ता पर हमला किया गया। इस हमले में अधिवक्ता बाल-बाल बच गए हैं। विस्फोट में कई दूसरे अधिवक्ता भी घायल हो गए हैं, जिन्हें नजदीकी अस्पताल भेजा गया। कोर्ट में 2 जिंदा बम भी मिले हैं। सेंट्रल बार एसोसिएशन के अध्यक्ष ने बताया कि यह हमला दो गुटों की आपसी रंजिश के चलते किया गया है। वहीं, पुलिस बल की सुरक्षा चूक पर भी सवाल उठ रहे हैं।

गुरूवार की सुबह करीब 11 बजे लखनऊ जिला कोर्ट में बार एसोसिएशन के एक पदाधिकारी अधिवक्ता संजीव लोधी को निशाना बनाकर बम से हमला किया गया। पुलिस के मुताबिक हमले में संजीव बाल-बाल बच गए हैं। पुलिस इसे दो गुटों के बीच टकराव का मामला बता रही है। अचानक धमाके की आवाज से कोर्ट परिसर में अफरातफरी मच गई। मौके पर पुलिस के आला अधिकारी पहुंचे हुए हैं और छानबीन की जा रही है।

इस घटना के बाद पुलिस सीसीटीवी फुटेज के जरिए हमलावरों की तलाश की जा रही है। सेंट्रल बार एसोसिएशन के अध्यक्ष आदेश सिंह ने कहा, ‘संजीव लोधी लखनऊ बार एसोसिएशन के जॉइंट सेंक्रटरी हैं। उन्हीं के चेंबर के सामने तीन बम फेंके गए हैं। तीन में से एक बम फटा है और दो बम जिंदा मिले हैं। हमलावरों ने तमंचे भी लहराए हैं।’

उन्होंने कहा, ‘सुनने में आया है कि लखनऊ बार एसोसिएशन के सेक्रटरी जितेंद्र यादव उर्फ जीतू से इनका विवाद चल रहा था। दावा किया जा रहा है कि जीतू और उन्हीं के लोगों ने यह हमला कराया गया है।’

बता दें कि, हाल ही में न्यायालय परिसर की सुरक्षा के मद्देनज़र सभी मुख्य फाटक पर मेटल डिटेक्टर मशीन और लगेज स्कैनिंग मशीनें लगवाई गई हैं। साथ ही परिसर में पुलिस बल की संख्या में भी वृद्धि की गई है। इसके बावजूद परिसर के अंदर विस्फोटक और हथियार कैसे पहुंचे? इस घटना के बाद सुरक्षाकर्मियों से हुई बड़ी चूक और सुरक्षा इंतेज़ाम पर इस तरह के सवाल उठ रहे हैं।

यह भी पढ़ें: आरक्षण मामले पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला बीजेपी और संघ की विचारधारा के अनुकूल है – कम्युनिस्ट पार्टी