तेजाब पीड़िता कुंती सोनी ने ‘छपाक’ फिल्म पर हो रही राजनीति पर दिया बड़ा बयान

कुंती सोनी, छपाक फिल्म, छपाक मूवी, Kunti Soni, Chhapak Film, Chhapak Movie

मुंबई: मेघना गुलजार की ‘छपाक’ फिल्म (Chhapak Movie) में दीपिका पादुकोण के साथ काम करने वाली तेजाब पीड़िता कुंती सोनी (Kunti Soni) इस फिल्म पर हो रही राजनीति से काफी दुखी हैं। ‘छपाक’ से जुड़े एक सवाल के जवाब में उनका दर्द छलक कर जुबां पर आ गया।

कुंती ने कहा, ‘छपाक’ फिल्म (Chhapak Movie) पर राजनीति करने वाले अगर फिल्म देखकर राय बनाएं तो बेहतर होगा। फिल्म पर उंगली उठाने वाले एसिड अटैक पीड़िताओं के दर्द को नहीं समझ रहे हैं। यह फिल्म, तेजाब का दंश झेलने वाली साहसी बेटियों को बड़ा संबल प्रदान करने वाली है।’

कुंती सोनी (Kunti Soni) ने कहा, ‘एसिड पीड़िताओं के दर्द को कहानी के माध्यम से फिल्म में ढालना मुश्किल है। ऐसी फिल्में समाज के लिए प्रेरणादायी हैं। इस फिल्म पर हो रही राजनीति दुर्भाग्यपूर्ण है। जिसकी बेटी पर तेजाब डाला जाता है, वही इस दर्द को समझ सकता है। एक एसिड पीड़िता के दर्द को दीपिका ने अपने किरदार में जीवंत किया है, इसीलिए यह फिल्म एसिड पीड़िताओं को अत्यधिक हिम्मत दे रही है।’

कुंती ने कहा कि ऐसी फिल्म पर राजनीति करने के बजाय खुले दिल से इसका स्वागत किया जाना चाहिए, क्योंकि फिल्म में महिलाओं के खिलाफ इस घिनौने अपराध की भयावहता को सही तरीके से दिखाया गया है। इसे देखने के बाद समाज को पता चलेगा कि एसिड चेहरा तो बदल सकता, लेकिन हौसला कमजोर नहीं कर सकता।

बता दें कि पांचवीं कक्षा तक पढ़ी कुंती सोनी पर 22 अक्टूबर, 2011 को महज शक की वजह से उनके पति ने एसिड से हमला किया था। इसके बाद कुंती का पूरा चेहरा खराब हो गया। डेढ़ साल तक मुकदमा लड़ने के बाद अकेली रह रहीं कुंती सोनी ने हिम्मत नहीं हारी और अब अपने परिवार के दर्जनभर लोगों का भरण पोषण कर रही हैं।

सोनी ने बताया, “उस दौरान पूरे परिवार को भी बहुत संघर्ष करना पड़ा। आस-पास के लोग भी छींटाकशी करते थे। वह बहुत बुरा वक्त था। मेरे चेहरे की 15 बार सर्जरी हुई है। इलाज के दौरान अस्पताल में मुझे देखने ससुराल पक्ष से कोई नहीं आया।”

वर्ष 2017 में कुंती सोनी के पति की एक दुर्घटना में मौत हो गई। कुंती के माता-पिता ने उनके हौसले को टूटने नहीं दिया। उनके पिता दिल के मरीज होने के बावजूद कुंती का इलाज कराया। उन्होंने इलाज के लिए अपना घर तक बेच दिया।

कानूनी लड़ाई के दौरान कुंती के वकील ने एक संस्था शीरोज कैफे के बारे में बताया था। इसके बाद से उन्होंने साल 2017 में इसे ज्वाइन कर लिया। कुंती सोनी (Kunti Soni) कहती हैं कि यहां पर काम करने में बहुत हौसला मिलता है। लोगों को आगे बढ़ने का तरीका बताया जाता है। वह अब आत्मनिर्भर हैं और आज उनकी एक अलग पहचान बन गई है।

यह भी पढ़ें: हमें इस काम की आदत डालनी चाहिए: पूजा हेगड़े

Asif Khan works as freelancer journalist from Lucknow district of Uttar Pradesh state in India.. He is native of Gorakhpur district. Asif Khan has worked with former Nav Bharat Times special correspondent Mr. Vijay Dixit, worked as video journalist in IBC24 news from Lucknow, worked with 4tv bureau chief Mr. Ghanshyam Chaurasiya, worked with special correspondent of Jan Sandesh Times Capt. Tapan Dixit. He has worked as special correspondent in The Dailygraph news. Contact with him via mail asifkhan2.127@gmail.com or call at +91-9389067047