होम Big News | बड़ी खबर बातचीत अब बंद, गणतंत्र दिवस पर मोदी सरकार को ‘ट्रैक्टर परेड’ के...

बातचीत अब बंद, गणतंत्र दिवस पर मोदी सरकार को ‘ट्रैक्टर परेड’ के जरिये किसान दिखाएंगे अपनी ताकत

314
kisan-tractor-parade-on-republic-day-india-2021
The-Gandhigiri-tg-website-designer-Developer-lucknow

सोनीपत: किसानों ने अब मोदी सरकार को ट्रैक्टर परेड (Kisan Tractor Parade) से अपनी ताकत दिखाने का फैसला कर लिया है। किसान भी गणतंत्र दिवस (Republic Day) से पहले सरकार के साथ बातचीत नहीं करने के मूड में दिख रहे हैं।

नए कृषि कानून रद्द कराने की मांग को लेकर किसानों का धरना जारी है। उधर, आंदोलन कर रहे किसानों और सरकार के बीच पिछले कुछ दिनों से लगातार चल रही बातचीत आगे के लिए फिलहाल बंद हो गई है।

बता दें कि, सरकार और किसानों के बीच हर बार नाकाम बैठक पर अगली तारीख तय हो जाती थी। इस बार की बैठक भी विफल ही रही। वहीं आगे की तारीख भी तय नहीं हुई है। ऐसे में बातचीत का रास्ता फिलहाल बंद हो गया है।

यह भी पढ़ें: हजारों की संख्या में किसान पहुंचे राजभवन, राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन

हालांकि किसान नेताओं में ट्रैक्टर परेड (Kisan Tractor Parade) को शांतिपूर्ण निकालने की चिंता बनी है। युवाओं से शांति व्यवस्था बनाए रखने की सबसे ज्यादा अपील की जा रही है।

नए कृषि कानून रद्द कराने के लिए किसान पिछले 58 दिनों से सड़कों पर डटे हैं। किसानों और सरकार के बीच 11 दौर की बातचीत हो चुकी है।

यह सभी बैठक बेनतीजा रहीं लेकिन पिछली सात बैठकों में गतिरोध बढ़ने के बावजूद अगली बैठक की तारीख तय हो जाती थी।

इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि किसानों की गणतंत्र दिवस (Republic Day) की ट्रैक्टर परेड (Kisan Tractor Parade) को सरकार रोकना चाहती है और इसलिए ही लगातार बैठक कर उनको मनाने में लगी थी।

जहां बुधवार को किसान और सरकार के बीच गतिरोध कुछ कम हुआ था, वहीं किसानों की नाराजगी शुक्रवार को कुछ ज्यादा ही बढ़ गई।

किसान नेताओं ने मंत्रियों पर काफी देर इंतजार कराकर अपमान करने का आरोप लगाया है। वहीं इस बार आगामी बैठक की तारीख भी तय नहीं हुई।

कुल मिलाकर 11वें दौर की बैठक से किसान और सरकार के बीच गतिरोध बढ़ गया है और बातचीत का आगे का रास्ता भी फिलहाल बंद होता दिख रहा है।

नाराज किसान नेताओं ने साफ कर दिया है कि अब सरकार को गणतंत्र दिवस (Republic Day) की किसान ट्रैक्टर परेड (Kisan Tractor Parade) से अपनी ताकत दिखाएंगे। गणतंत्र दिवस को जहां सरकार अपनी परेड कराएगी, वहीं किसान अपनी परेड करेंगे।

किसान नेताओं को उम्मीद है कि यह ट्रैक्टर परेड एतिहासिक होगी और इसमें देशभर के लाखों किसान शामिल होंगे। किसान नेताओं के सामने परेड से शरारती तत्वों को दूर रखने और हिंसा को रोकने की बड़ी चुनौती है।

किसान नेता खुद भी इसे बड़ी चुनौती मानकर चल रहे हैं और शांतिपूर्ण तरीके से परेड करने के लिए युवाओं से भावुक अपील कर रहे हैं। उनको लगता है कि अगर परेड में किसी तरह की हिंसा हुई तो किसानों का आंदोलन कमजोर पड़ जाएगा।

लखनऊ: हजारों की संख्या में किसान पहुंचे राजभवन, राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन

the-gandhigiri-Whatsapp-news-Broadcast the-gandhigiri-telegram-channel