होम Local | स्थानीय लखनऊ: हादसे में परिवार सहित जान गवाने वाले पत्रकार के अनाथ बच्चों...

लखनऊ: हादसे में परिवार सहित जान गवाने वाले पत्रकार के अनाथ बच्चों के लिए क्या योगी सरकार के पास समय नहीं?

509
protest-for-lucknow-journalist-murali-manohar-saroj
The-Gandhigiri-tg-website-designer-Developer-lucknow

लखनऊ: राजधानी में सैकड़ों पत्रकार साथियों और समाजसेवियों ने धरना देकर योगी सरकार से दिवंगत पत्रकार मुरली मनोहर सरोज (Journalist Murali Manohar Saroj) के नाबालिग बच्चों को सरकारी सहायता देने की मांग रखी l

हाल ही में आगरा यमुना एक्सप्रेस वे पर हुए एक हादसे में लखनऊ के पत्रकार मुरली मनोहर सरोज और उनकी पत्नी सहित परिवार के पांच सदस्यों ने जान गवां दी थी l

सरोज के असामयिक निधन के बाद उनके दो नाबालिग बच्चे अनाथ हो गए l घटना को तीन सप्ताह बीत चुके हैं l प्रदेश की योगी सरकार भी इस हादसे से बखबर है l इसके बावजूद प्रदेश सरकार की ओर से दिवंगत पत्रकार के अनाथ बच्चों के लिए किसी तरह का आश्वासन या सहायता मुहैया नहीं कराया गया है l

इस बात से साफ जाहिर है कि योगी सरकार देश के चौथे स्तंभ कहे जाने वाले पत्रकारों और उनके परिवार को लेकर कितनी चिंतित है l

लखनऊ के ईको गार्डन स्थित धरना स्थल पर भारतीय पत्रकार एवं मानवाधिकार परिषद के बैनर तले धरना देकर जिला प्रशासन के माध्यम से योगी सरकार को ज्ञापन भेजा गया l

धरने का नेतृत्व कर रहे भारतीय पत्रकार एवं मानवाधिकार परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष जितेन्द्र बहादुर सिंह ने बताया कि इस दुखद हादसे के बाद दिवंगत पत्रकार मुरली मनोहर सरोज (Journalist Murali Manohar Saroj) के दो बच्चों के भावी जीवन के लिए बहुत सीमित विकल्प शेष रह गए हैं l

उन्होंने कहा कि इस बात की महती आवश्यकता है कि राज्य सरकार इन अनाथ हो चुके दोनों बच्चों के संरक्षक की भूमिका में स्वतः स्फूर्त रूप से आगे आकर इन बच्चों की शिक्षा, सरकारी नौकरी और एकमुश्त मुआवजा धनराशि की मुकम्मल व्यवस्था करे l

राष्ट्रीय अध्यक्ष ने योगी सरकार से मांग की कि अनाथ हो चुके इन बच्चों की सामाजिक सुरक्षा, भरण-पोषण और स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का निराकरण सम्मानजनक रूप से होना चाहिए l

संस्था द्वारा जिला प्रशासन के माध्यम से भेजे गए ज्ञापन में प्रमुख रूप से मांग की गई है l इनमें प्रमुख रूप से मांग है कि,

1- राज्य सरकार मानवीय संवेदनाओं के दृष्टिगत दिवंगत पत्रकार मुरली मनोहर सरोज के नाबालिग बच्चों की स्नातक स्तर तक की निःशुल्क शिक्षा की सरकारी व्यवस्था करे l

2- शिक्षा पूरी होने के बाद दोनों बच्चों के लिए अभी से एक सरकारी नौकरी आरक्षित करने और बच्चों की सामाजिक सुरक्षा, भरण-पोषण और स्वास्थ्य-समस्याओं के निदान के लिए एक करोड़ रूपये का एकमुश्त मुआवजा देने का आदेश जल्द से जल्द जारी करे l

धरने में भारतीय पत्रकार एवं मानवाधिकार परिषद के सदस्यों के साथ-साथ आये जितेन्द्र बहादुर सिंह, तनवीर अहमद सिद्दीकी, एस के द्विवेदी, संजय आज़ाद, लईक अहमद, दयाशंकर शास्त्री, सोनाली गुप्ता, जोया, राहुल सैनी, लाल मणि यादव, राहुल सैनी, ज्ञान अग्निहोत्री, देवराज, नीरज श्रीवास्तव, सुरेन्द्र प्रजापति, अमित सैनी, मुशीर अहमद, रविन्द्र पाल, आशीष, प्रीतम, वीरेंद्र मिश्रा, धरीज शर्मा, लवकुश सिंह, देवेन्द्र कुमार, मधु, रिजवान, अंजनी श्रीवस, संदीप पांडेय, अमित श्रीवास्तव सहित सैकड़ों की संख्या में पत्रकार और समाजसेवी शामिल हुए l

सभी ने इस दुखद हादसे में दिवंगत पत्रकार और उनके परिवारीजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए उनके दो बच्चों के लिए राज्य की तरफ से सहायतायें अविलम्ब देने की मार्मिक अपील की है l

अन्य बड़ी ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

the-gandhigiri-telegram-channel