20 लाख करोड़ राहत पैकेज के बहाने ‘मित्रों’ को कितना फायदा पहुंचा सकती है सरकार?

20-lakh-crore-relief-package-details-in-hindi-and-distribution

नई दिल्ली: भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने राहत पैकेज से जुड़े चौथे प्रेस कांफ्रेंस में अगली जानकारी दी है। उन्होनें बताया कि बिजली कंपनियों से लेकर कोल इंडिया की खदानें प्राइवेट हाथों में दी जाएंगी।

6 एयरपोर्टों की नीलामी

भारत सरकार अंबानी, अडानी, टाटा पावर, जेएसडब्ल्यू स्टील और वेदांता जैसे उद्योपतियों को ज़बरदस्त फायदा पहुंचाने की तैयारी में है. वैसे तो बीते 6 सालों के दौरान मोदी सरकार में निजीकरण होना कोई नई बात नहीं है, लेकिन कोरोना संकट में गरीब जनता को फायदा पहुंचाने के नाम पर ऐसे फैसलों को लेकर सवाल उठ रहे हैं.

यह खबर भी जरूर पढ़ें

Covid-19: भारत सरकार से मिली यह अच्छी खबर, जल्द ही…

वित्त मंत्री ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि 6 और एयरपोर्टों की नीलामी होगी. इससे पहले भी 6 एयरपोर्टों की नीलामी हो चुकी है, मतलब कुल मिलाकर 12 हो जाएंगे. ध्यान देने वाली बात है कि उन्होनें ये भी कहा है कि इनमें से कुछ परियोजनाएं लंबे वक़्त के लिए हैं और इससे कोरोना संकट में मदद मिलने की संभावना नहीं है. फिर राहत पैकेज में ही इस नीलामी की घोषणा करने की क्या ज़रूरत थी?

ambani-adani

कोल कंपनियों का निजीकरण

खनन (माइनिंग) को बढ़ाने के लिए सरकार कोल इंडिया लिमिटेड को बेहतर नहीं बना रही बल्कि उसी का निजीकरण कर रही है. आपको बता दें कि 50 ऐसे नए ब्लॉक नीलामी के लिए उपलब्ध होंगे. कोल खदानों की नीलामी को क्लब करके सरकार 500 माइनिंग ब्लॉक की नीलामी करेगी जिससे वेदांता एल्युमीनियम जैसी कंपनियों को फायदा होगा. देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार हर तरिके से निजीकरण का सहारा ले रही है.

LOCKDOWN LATEST UPDATE

Lockdown 4 की दिशा निर्देश जारी, जानिए कल से क्या कुछ बदल जायेगा…!

कोल खदानों और एयरपोर्टों की नीलामी के अतिरिक्त सरकार केंद्र शासित राज्यों में बिजली कंपनियों का निजीकरण भी करेगी. इस निजीकरण के चलते अडानी और टाटा पावर को बड़ा फायदा पहुँच सकता है. सरकार ने रक्षा उत्पादन में आने वाले FDI की लिमिट 49 प्रतिशत से बढ़कर 74 प्रतिशत कर दी है.

adani_modi

 

जानकारों का मानना है किअर्थव्यवस्था को संभालने के लिए सरकारी कंपनियों का निजीकरण करके उद्योपतियों को फायदा पहुंचाने का काम किया जा रहा है. दूसरी तरफ श्रम कानूनों को एक तरह से खत्म करके मज़दूरों के शोषण पर मोहर भी लगाया जा रहा है. इसमें ओडिसा और राजस्थान जैसी राज्य सरकारें भी शामिल हैं.

(साभार, बोलता हिंदुस्तान)

यह भी पढ़ें: खुलासा: मोदी सरकार के 20 लाख करोड़ राहत पैकेज में निकला बड़ा झोल

 

मोदी जी ने भगोड़ों का 68,607 करोड़ कर्ज़ माफ किया, क्या आपका बिजली, पानी, हाउस टैक्स, EMI माफ करेंगे?

  

क्या आपको यह खबर पसंद आई?

तो लाइक कर के हमें भी बतायें

       ----------------------------------------------------------  
हम आपको इस खबर से जुड़ी ताजा अप्डेट्स भेजते रहेंगे
   
Dipak Pandey is freelancer journalist from Lucknow district of Uttar Pradesh state in India. He is native of Allahabad district. He has worked with many reputed news channels and digital media platform. Contact him with email : dp362031@gmail.com, or mobile : 9125516663.