Home Rajnitik Khabar किसानों को ठग बीजेपी सरकार बाबा रामदेव को दे रही आधे दाम...

किसानों को ठग बीजेपी सरकार बाबा रामदेव को दे रही आधे दाम पर 400 एकड़ ज़मीन

8
baba ramdev patanjali, maharash patanjali land acquisition, महाराष्ट्र, फडणवीस सरकार, बाबा रामदेव, स्वामी रामदेव, हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड, बीएचईएल, पतंजलि फूड और हरबल पार्क नागपुर, पतंजलि सोयाबीन प्रोसेसिंग यूनिट लातूर, भूमि अधिग्रहण

वैसे तो कृषि प्रधान देश में किसानों को ठगे जाने का यह कोई पहला मामला नहीं है. लेकिन इस बार किसानों से की गई ठगी किसी फिल्मी सीन से कम भी नहीं है. दरअसल, महाराष्ट्र की फडणवीस सरकार ने पतंजलि आयुर्वेद के संस्थापक बाबा रामदेव को 400 एकड़ सरकारी ज़मीन आधे दाम पर देने की पेशकश की है. यह ज़मीन पहले किसानों की थी जिसे कांग्रेस सरकार ने अधिग्रहण कर भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (बीएचईएल) का प्लांट लगाने के बाद नौकरी देने का वादा किया था.

रामकृष्ण यादव जिन्हें स्वामी रामदेव के नाम जाना जाता है, पर महाराष्ट्र की बीजेपी सरकार कुछ ज्यादा ही मेहरबान है. तीन साल पहले बीजेपी सरकार ने उन्हें पतंजलि फूड और हरबल पार्क के लिए नागपुर में 230 एकड़ ज़मीन बेहद कम दामों पर मुहैया कराई थी. जिस पर अभी तक किसी तरह का कोई कार्य नहीं किया गया है.

यह भी पढ़ें: असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, ’बीजेपी वालों….तुम राम भक्त नहीं, राक्षसों के भक्त हो’

यह भी पढ़ें: क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019 की विजेता इंग्लैंड टीम के कप्तान इयोन मोर्गन ने कहा, ‘हमारे साथ अल्लाह थे’, ट्विटर पर लोगों ने ऐसे किया ट्रोल

the-gandhigiri-news-app-may-2020

एक बार फिर बाबा रामदेव पर बीजेपी नेतृत्व वाली महाराष्ट्र की फडणवीस सरकार ने लातूर में पतंजलि सोयाबीन प्रोसेसिंग यूनिट के लिए 400 एकड़ सरकारी ज़मीन न केवल आधे दाम पर देने की पहल की है बल्कि कई अन्य छूट भी दे रही है. जिसमें एक तय समय तक बिजली के शुल्क में छूट और स्टाम्प में 100 फीसदी छूट भी शामिल हैं. इस डील से जुड़े तमाम सूत्रों ने इसकी पुष्टि की है. सरकारी खजाने के नुकसान के साथ ही किसानों से ठगी कर बाबा रामदेव पर बीजेपी सरकार की मेहरबानी समझना काफी मुश्किल है.

क्या है पूरा मामला

किसानों ने साल 2013 में सरकार को 3.5 लाख रूपये प्रति एकड़ पर जमीन बेची थी. तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने ज़मीन पर भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (बीएचईएल) की फैक्ट्री लगने के बाद किसानों को नौकरी भी देने का वादा किया था. अगले ही साल अक्टूबर 2014 में भारतीय जनता पार्टी राज्य की सत्ता संभालती है. जिसके बाद अब तक उस ज़मीन पर बीएचईएल का प्लांट नहीं लग सका है. वर्तमान में ज़मीन की कीमत करीब 45 लाख रूपये प्रति एकड़ है.

किसानों का क्या कहना है

इस मामले में बाबा रामदेव को पतंजलि सोयाबीन प्रोसेसिंग यूनिट के लिए दी गई ज़मीन पर किसानों का कहना है कि वो खुद को ठगा महसूस कर रहे हैं. किसानों का कहना है कि उन्होंने फैक्ट्री लगने के बाद रोजगार देने के वादे पर अपनी ज़मीने सरकार को बेची थी. बीजेपी सरकार किसानों के हितों के बजाये सरकार के करीबी काॅर्पोरेट घरानों के हित की सोच रही है.

अन्य ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

https://www.thegandhigiri.com/indian-army-soldier-revealed-the-corruption-in-military/