Big News | बड़ी खबर नए कृषि बिल की प्रतियां जलाकर किसानों ने जताया विरोध

नए कृषि बिल की प्रतियां जलाकर किसानों ने जताया विरोध

google-news-jpg2
mail-subscribe-jpg

लखनऊ: भारतीय किसान यूनियन (Bhartiya Kisan Union) ने केंद्र की मोदी सरकार के बनाये गए नए कृषि कानून (New Agriculture Law) की प्रतियां किसान भवन पर जला कर अपना विरोध-प्रदर्शन जाहिर किया।

किसानों ने अपने विरोध प्रदर्शन में सरकार से तीनों कृषि बिल को रद्द करने और न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) को गारंटी कानून बनाने की मांग रखी।

किसानों का कहना है कि सरकार ने किसानों की मांग को लेकर अभी तक कोई सकारात्मक पहल नहीं की है।

भारतीय किसान यूनियन (Bhartiya Kisan Union) के नेता आलोक वर्मा ने कहा कि नए कृषि कानून (New Agriculture Law) पर जनहित में सुप्रीम कोर्ट के दिए फैसले का तो किसान समर्थन करते हैं लेकिन जो कमेटी बनाई गई है उसको किसान स्वीकार नहीं करेंगे।

उन्होंने आगे कहा कि, ‘कमेटी में सम्मिलित लोग किसान हितेषी नहीं है। वो लोग पहले से ही न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को खत्म करके खुले बाजार की व्यवस्था की मांग कर रहे थे। उनमें से कुछ तो कृषि बिल के समर्थन में पहले से हैं। ऐसे में किसान को यह उम्मीद नहीं है कि कमेटी किसान हित में रिपोर्ट देगी।’

अलोक वर्मा ने कहा कि किसान नेता चौधरी राकेश टिकैत के नेतृत्व में यह धरना चलता रहेगा और सरकार से कानून वापसी की बात होती रहेगी। लोकतंत्र में अपनी बात कहने का सभी को अधिकार है। उसी क्रम में यह किसान तब तक आंदोलित रहेगा जब तक बिल वापसी नहीं होंगे और न्यूनतम समर्थन मूल्य को कानून नहीं बनाया जाता।

सुप्रीम कोर्ट के दखल और नई कमिटी के गठन से किसानों को क्या हासिल हो सकता है?

गौरतलब है कि मोदी सरकार के लाये गए नए कृषि बिल के विरोध में पंजाब, हरयाणा, उत्तर प्रदेश सहित देशभर के किसान डेढ़ महीने से आंदोलन पर हैं। सरकार और किसान नेताओं के बीच 8 बार से ज़्यादा कृषि बिल पर बातचीत हो चुकी है, लेकिन अभी तक कोई नतीजा सामने नहीं आया है।

जहां किसान शुरू से ही नए कृषि कानून को वापिस करने की मांग पर अड़े हैं वहीं सरकार कानून में संशोधन के लिए तो तैयार है लेकिन इसे पूरी तरह निरस्त करने के हक में नहीं है।

पिछली कई बातचीत बेनतीजा गुजरने के बाद मोदी सरकार किसानों से कहती रही है कि यदि उन्हें सरकार पर भरोसा नहीं तो वे सुप्रीम कोर्ट जा सकते हैं। जबकि मामला सुप्रीम कोर्ट ले जाने पर किसानों की कोई सहमति नहीं बन पाई है।

आखिरकार किसानों की सहमति के विपरीत सुप्रीम कोर्ट में नए कृषि कानून (New Agriculture Law) को लेकर जनहित में याचिका दाखिल की गई जिस पर कोर्ट ने नए कानून को तत्काल प्रभाव से अमल में लाये जाने पर रोक लगा दी है।

इसके साथ ही देश की सर्वोच्च न्यायपालिका ने अशोक गुलाटी, भूपिंदर सिंह मान, प्रमोद जोशी और अनिल घनवट की देखरेख में एक कमिटी का गठन कर नए कृषि कानून पर विस्तार से जानकारी भी मांगी है। इस कमिटी में दो किसान नेता और दो एक्सपर्ट को शामिल किया गया है।

अगर हम बात करें सुप्रीम कोर्ट के दखल की तो पलड़ा किसानों से ज्यादा सरकार का भारी दिखाई दे रहा है। कोर्ट में मामला जाने के बाद मोदी सरकार अपनी ओर से किसानों के प्रति किसी भी तरह की जवाबदेही या मुआइदे से मुक्त हो गई है। सरकार को अब यह कहने का मौका मिल जाता है कि कोर्ट के फैसले का इंतजार करिये और जो फैसला आएगा वो सभी को मानना होगा।

इसके साथ ही किसानों का यह भी मानना है कि कमिटी किसानों के असल मुद्दों को कोर्ट के सामने नहीं रखेगी क्यूंकि अशोक गुलाटी की अध्यक्षता में गठित कमिटी ने ही नए कृषि बिल को लाने की सिफारिस की थी।

हालांकि, कोर्ट के पास नए कृषि कानूनों को लागू या रद्द करने का अधिकार है, लेकिन मोदी सरकार के संसद में बनाये गए नए कानूनों को सुप्रीम कोर्ट हमेशा ही रद्द करने से बचती रही है।

सीएए-एनआरसी, आर्टिकल-370 या आरक्षण बिल जैसे संसद में पास किये गए पिछले कुछ कानूनों की बात करें तो ज्यादातर में जनहित याचिका को हानि हुई है और मोदी सरकार को फायदा मिला है। शायद यही वजह है कि किसान संसद में पास किये गए नए कृषि कानून को सुप्रीम कोर्ट तक नहीं लेजाना चाहते थे।

अन्य बड़ी खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें

हम गोदी मीडिया की भांति बिकाऊ नहीं हैं, इसलिए हमें अपने सीमित संसाधनों पर ही कार्य करना होता है जो कि लंबे समय तक संभव नहीं है। हमें निष्पक्ष, निडर और स्वयं निर्भर बनाने के लिए हमारी सहायता करें। कृपया नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें और हमारी सहायता के लिए अपनी सुविधानुसार विकल्प चुनें। धन्यवाद

संपूर्ण विवरण

 

गोदी मीडिया से सावधान !

हमें सब्सक्राइब करें और अपने ई-मेल पर पाएं बेबाक और विश्वसनीय खबरें।

Loading

* Must verify your mail *

सबसे सस्ता और सबसे बेहतर वेबसाइट डिजाइनिंग

अन्य डेवेलपर्स के चक्कर में पड़ कर 5 हज़ार की वेबसाइट का 10 हज़ार हरगिज़ न खर्च करें। क्योंकि द गांधीगिरी आपको सबसे सस्ते दाम पर और सबसे बेहतर तरीके से वेबसाइट डिज़ाइन करके देगा। न्यूज़, बिज़नेस, ब्लॉगिंग, पर्सनल सेल्फ प्रमोशनल या पॉलिटिकल पार्टी वेबसाइट हमसे बनवाएं। संतुष्ट न होने पर पूरी रकम वापस (केवल डोमेन छोड़ कर)।

क्या आपको पता है? 95% डेवेलपर्स आपसे हज़ारों रुपये वसूल कर आपको स्लो होस्टिंग, फ्री वाला डेमो/नुल्ड/स्पैम/वायरस से इंफेक्टेड थीम (टेम्पलेट), डेमो प्लगिन्स (सॉफ्टवेयर) इंस्टॉल करके दे देते हैं। इससे न सिर्फ आपकी वेबसाइट का पेज लोड टाइम स्लो हो जाता है, बल्कि आपका डेटा, निजी जानकारी और हैकिंग का खतरा भी बना रहता है। संपूर्ण जानकारी के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें >>

RELATED NEWS | संबंधित

LATEST NEWS | ताज़ा खबर

करोड़ों यूजर्स की नाराजगी का टेलीग्राम को मिला फायदा, आखिरकार घबराये व्हाट्सएप ने भी घुटने टेके

वॉशिंगटन: हाल ही में व्हाट्सएप कंपनी की नई प्राइवेसी पॉलिसी (Whatsapp New Privacy Policy) को लेकर मचे बवाल के बीच व्हाट्सएप ने घोषणा की...

अमेरिकी रक्षा विभाग ने चीनी सेना से जुड़े Xiaomi फोन को किया ब्लैकलिस्ट, इंडिया में धड़ल्ले से हो रही बिक्री

वाशिंगटन: अमेरिकी रक्षा विभाग (US Defense Dptt.) ने चीनी सेना से जुड़े नौ और चीनी कंपनियों को ब्लैकलिस्ट (Blacklist) कर दिया, इसमें चीन की...

क्या मायावती – शिवपाल के बीच पक रही कोई राजनीतिक खिचड़ी ?

लखनऊ। राजनीति की दुनिया में नामुमकिन कुछ भी नहीं। गुपचुप गुपचुप दो दल मिलते और टूटते हैं। जनता को तो अक्सर चुनाव के समय...

इंडोनेशिया में लगातार प्राकृतिक आपदा की मार, पहले हुआ भूस्खलन अब भीषण भूकंप

जकार्ता: इंडोनेशिया में भूकंप (Indonesia Earthquake) के तेज झटके महसूस किए गए हैं। रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 6.2 हैं। इस भूकंप से अब...

पीएम मोदी कल करेंगे कोरोना टीकाकरण की शुरुआत, जानिए क्या है तैयारी

नई दिल्ली: देश में आगामी 16 जनवरी से दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीन कार्यक्रम शुरू होने जा रहा है। इसे लेकर सभी तैयारियों पूरी...

पोलियो टीकाकरण दिवस कार्यक्रम में बदलाव, अब इस दिन अभियान की शुरुआत होगी

नई दिल्ली: देश में पोलियो टीकाकरण अभियान (Polio Vaccination Campaign) की शुरुआत 31 जनवरी से की जाएगी। एक दिन पहले ही स्वास्थ्य मंत्रालय ने...

NEWS TRENDS | ट्रेंडिंग

दुनिया की कोई ताकत मुझे हाथरस जाने से रोक नहीं सकती: राहुल गांधी

नई दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की अगुवाई में पार्टी सांसदों का एक प्रतिनिधिमंडल शनिवार दोपहर हाथरस में कथित सामूहिक दुष्कर्म मामले...

महागठबंधन के नेता बने तेजस्वी, कांग्रेस 70 और राजद 144 सीटों पर लड़ेगी चुनाव

पटना: बिहार विधानसभा चुनाव से पहले महागठबंध में शामिल राजद, कांग्रेस, सीपीआई, वीआईपी सहित सभी दलों के बीच तेजस्वी को महागठबंधन का नेता चुन...

ट्रंप को बड़ा झटका, अमेरिकी कोर्ट ने H-1B वीजा बैन के फैसले पर लगाई रोक

वाशिंगटन: लाखों भारतीय पेशेवरों के लिए राहत की खबर सामने आई है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा एच-1बी वीजा पर प्रतिबंध के लिए इस...

शहजादे शेख नवाफ बने तेल समृद्ध कुवैत के नए अमीर

दुबई: कुवैत (Kuwait) के शहजादे शेख नवाफ अल अहमद अल सबाह (Sheikh Nawaf Al Ahmed Al Sabah) मंगलवार देर रात को इस तेल समृद्ध...

Babri Masjid Case: पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह, आडवाणी-जोशी समेत सभी 32 आरोपी बरी

नई दिल्ली/ लखनऊ: अयोध्या में 6 दिसंबर 1992 को बाबरी मस्जिद (Babri Masjid) विध्वंस के आपराधिक मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने आज...

मध्यप्रदेश में 12 संयुक्त और डिप्टी कलेक्टरों के तबादले होंगे रद्द, चुनाव आयोग ने जारी किए निर्देश

नई दिल्ली / भोपाल - चुनाव आयोग ने मध्य प्रदेश के उपचुनाव वाले 12 जिलों के संयुक्त और डिप्टी कलेक्टर के तबादले रद्द कर...