वीडियो: कैसे दलित और मुसलमानों को आपस में लड़वाना चाहती है बीजेपी आईटी सेल

bjp it cell fake video, shailen pratap, बीजेपी आईटी सेल, दलित युवक की मस्जिद के अंदर पिटाई, मोबाइल चोरी के आरोप में हापुड़ मस्जिद में पिटाई,

ऐसा अक्सर देखने को मिलता है कि सोशल मीडिया पर झूठी खबर वायरल करने वाले खुदको ‘देशभक्त’ लिखते हैं या अपने वाॅल पर ‘तिरंगा’ लगाते हैं. ऐसा करके वो असली देशभक्त और तिरंगा दोनों को खुलकर बदनाम करते हैं. इनका टार्गेट 90 प्रतिशत एक धर्म विशेष के लोग होते हैं या सेक्यूलर पार्टी. अब तक फर्जी खबर वायरल करने वाले ऐसे कथित देशभक्तों में ज्यादातर भाजपा के समर्थक या बीजेपी आईटी सेल के लोग शामिल रहे हैं. इसी श्रंखला को आगे बढ़ाते हुए एक और भाजपा समर्थक शैलेंद्र प्रताप ने एक वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया है. दावा किया है कि एक दलित युवक को मुस्लिम समुदाय के लोग मस्जिद के अंदर खींच कर ले गये और उसकी बुरी तरह पिटाई की.

दरअसल, करीब डेढ़ माह पहले हापुड़ के करीमपुरा में स्थित कब्रिस्तान वाली मस्जिद में एक समीर नाम का युवक नमाज़ पढ़ने गया था. तभी हापुड़ जमात के लोगों ने उस पर मोबाइल चोरी का आरोप लगाते हुए उसकी पिटाई कर दी थी. समीर कोई दलित नहीं बल्कि मुस्लिम युवक है. समीर के भाई जीशान पुत्र अखलाक ने पुलिस को लिखित तहरीर भी दी थी. पुलिस ने मामला दर्ज कर चिंहित अभियुक्तों के खिलाफ कार्यवाही भी की थी.

यह भी पढ़ें: चारा घोटाले में लालू यादव को मिली ज़मानत, लेकिन जेल से आज़ादी नहीं

इस वीडियो में पीटने वाले भी मुस्लिम हैं और पिटने वाला युवक भी मुस्लिम ही है. लेकिन बीजेपी आईटी सेल की ओर से जानबूझ कर झूठे मैसेज के साथ ऐसी वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल की जाती है. इसका साफ मक़सद यह है कि दलित वर्ग और मुसलमानों के बीच तनाव पैदा किया जा सके.

शैलेंद्र प्रताप को अमित शाह और पीयूष गोयल फॉलो करते हैं

अगर हम बात करें फर्जी पोस्ट वायरल करने वाले बीजेपी समर्थक शैलेंद्र प्रताप की तो बता दें कि इन्हें ग्रहमंत्री अमित शाह और रेल मंत्री पीयूष गोयल भी फाॅलो करते हैं. इसके साथ ही दिल्ली भाजपा प्रवक्ता तजिंदर पाल सिंह बग्घा भी इन्हें फाॅलो करते हैं. शैलेंद्र के झूठ का पर्दाफाश होने के बाद उसने अपने ट्वीटर पर प्रोटेक्शन लगा दिया है. जहां तक जानकारी मिली है कि शैलेंद्र बीजेपी में किसी विशेष पद पर कार्यरत नहीं है. फिर भी भाजपा के शीर्ष नेता इन्हें फाॅलो करते हैं. इसका सीधा सा मतलब है कि बीजेपी आईटी सेल से बिना कनेक्शन ऐसा होना मुमकिन नहीं.

अन्य ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

https://www.thegandhigiri.com/movie-batla-house-will-show-that-the-encounter-was-correct-or-fake/

the gandhigiri app download, thegandhigiri  
Dipak Pandey is freelancer journalist from Lucknow district of Uttar Pradesh state in India. He is native of Allahabad district. He has worked with many reputed news channels and digital media platform. Contact him with email : dp362031@gmail.com, or mobile : 9125516663.

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *