Home Rajya Samachar राम जन्मभूमि पर दुनिया की कोई ताकत मस्जिद नहीं बनवा सकती है...

राम जन्मभूमि पर दुनिया की कोई ताकत मस्जिद नहीं बनवा सकती है – वेदांती

61
dr. ramvilas vedanti on ram janmbhumi, ram temle, ayodhya, डाॅ. रामविलास वेदांती, रामविलास वेदांती, राम जन्मभूमि, राम जन्मभूमि पर मस्जिद, बाबरी मस्जिद, अयोध्या राम जन्मभूमि, अयोध्या राम मंदिर

thegandhigiri-news-app-may-2020

राम जन्मभूमि के कार्यकारी अध्यक्ष डाॅ. रामविलास वेदांती ने कहा कि, ‘दुनिया की कोई ताकत राम जन्मभूमि पर मस्जिद नहीं बनवा सकती’. उन्होंने पत्रकारों से बात करते हुए ऐसा कहा. उनसे जब पूछा गया कि यह अपका सुझाव है या धमकी, तो उन्होंने जवाब दिया ‘चाहे सुझाव समझो या धमकी….. जहां रामलला विराजमान हैं, वहां कोई किसी कीमत पर मस्जिद का निर्माण नहीं करा सकता.’

कट्टरपंथी मुसलमानों को छोड़ कर सभी यही चाहते हैं कि राम मंदिर का निर्माण हो

डाॅ. वेदांती ने कहा कि कुछ कट्टरपंथी मुसलमानों को छोड़ कर सभी यही चाहते हैं कि राम मंदिर का निर्माण हो. उन्होंने कहा कि पाकिस्तानपरस्त कुछ ताकतें देश का सांप्रदायिक सद्भाव बिगाड़ने के लिए जानबूझ कर ऐसा कर रही है.

यह भी पढ़ें: एक और झूठ, इज़राइल ने गंगा की सफाई के लिए भारत को ‘ट्रैश स्किम्मर बोट’ गिफ्ट किया

यह भी पढ़ें: वीडियो: कैसे दलित और मुसलमानों को आपस में लड़वाना चाहती है बीजेपी आईटी सेल

पूर्व सांसद डाॅ. रामविलास वेदांती ने सुन्नी वक्फ बोर्ड पर आरोप लगाते हुए कहा कि सांप्रदायिक माहौल बिगाड़ने के लिए वो इस मसले को उलझाये रखना चाहते हैं. जबकि देश के 80 प्रतिशत मुसलमान समझौता कर इस मामले का हल चाहते हैं.

खुदाई में 12 भगवानों की मूर्तियां मिली थी

उन्होंने कहा कि, राम जन्मभूमि पर खुदाई के दौरान बाबरी मस्जिद के स्थान पर 12 भगवानों की मूर्तियां मिली हैं. बाबरी मस्जिद से संबंधित कोई प्रमाण नहीं मिला है. काशी, मथुरा और अयोध्या सहित देश भर में 30 हज़ार से ज्यादा मंदिर तोड़ कर मस्जिद बनाये गये. इसके बावजूद संतों ने केवल तीन मंदिर निर्माण की मांग रखी थी. काशी में विश्वनाथ मंदिर, मथुरा में कृष्ण जन्मभूमि और अयोध्या में राम जन्मभूमि इनमें शामिल हैं.

सुन्नी वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष की कही बात पूरी हो

डाॅ. रामविलास वेदांती ने कहा कि सुन्नी वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष सैयद सहाबुद्दीन ने कहा था कि विवादित भूमि पर यदि मंदिर के अवशेष मिलते हैं तो उन्हें मंदिर निर्माण से कोई आपत्ति नहीं होगी. सहाबुद्दीन आज जीवित नहीं हैं और खुदाई में मंदिर के अवशेष मिले हैं. तो उनके कहे मुताबिक सुन्नी वक्फ बोर्ड को मंदिर निर्माण से कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए. लेकिन बोर्ड अब सुप्रीम कोर्ट का सहारा ले रहा है.

अन्य ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें