सोमवार, फ़रवरी 26, 2024
होमINDIA | बड़ी खबरUniform Civil Code: कितना देश हित और कितना राजनीतिक अजेंडा ?

Uniform Civil Code: कितना देश हित और कितना राजनीतिक अजेंडा ?

यूनिफ़ॉर्म यूसीसी (Uniform Civil Code) कई दशकों से भारत में विवादास्पद बहस का विषय रहा है। यह व्यक्तिगत कानूनों का एक सामान्य सेट तैयार करने के विचार से संबंधित है जो सभी नागरिकों पर लागू होगा, चाहे उनकी धार्मिक संबद्धता कुछ भी हो। यूसीसी का लक्ष्य विभिन्न धार्मिक समुदायों के लिए मौजूदा अलग-अलग व्यक्तिगत कानूनों को प्रतिस्थापित करके लैंगिक समानता, धर्मनिरपेक्षता और सामाजिक सद्भाव को बढ़ावा देना है। हालाँकि, समान नागरिक संहिता के कार्यान्वयन को महत्वपूर्ण विरोध का सामना करना पड़ा है और यह देश के भीतर गहन चर्चा का विषय बना हुआ है।

यूसीसी के समर्थक (UCC Supporters)

यूसीसी के समर्थकों का तर्क है कि यह एक धर्मनिरपेक्ष राज्य के सिद्धांतों को मजबूत करेगा। धार्मिक संबद्धता के आधार पर अलग-अलग व्यक्तिगत कानून होने से, आलोचकों का तर्क है कि राज्य अनजाने में धार्मिक मामलों में हस्तक्षेप कर रहा है। उनका तर्क है कि समान नागरिक संहिता लागू करने से कानूनी ढांचा धर्मनिरपेक्षता के सिद्धांतों के अनुरूप हो जाएगा, सभी नागरिकों के साथ समान व्यवहार किया जाएगा, भले ही उनकी धार्मिक पृष्ठभूमि कुछ भी हो।

यूसीसी के वकील इस बात पर भी जोर देते हैं कि इससे राष्ट्रीय एकता और सामाजिक एकजुटता की भावना को बढ़ावा मिलेगा। उनका तर्क है कि एक समान नागरिक संहिता धार्मिक सीमाओं को पार कर जाएगी और सभी नागरिकों के लिए एक साझा मंच तैयार करेगी, जिससे विविध समाज के बंधन मजबूत होंगे। यह अधिकारों और जिम्मेदारियों की साझा समझ को बढ़ावा देगा, जिससे अधिक सामंजस्यपूर्ण और समावेशी राष्ट्र में योगदान मिलेगा।

यूसीसी के खिलाफ (UCC Opponent)

हालाँकि, यूसीसी (Uniform Civil Code) के विरोधी धार्मिक स्वतंत्रता और सांस्कृतिक विविधता पर संभावित उल्लंघन के बारे में चिंता व्यक्त करते हैं। उनका तर्क है कि व्यक्तिगत कानून धार्मिक मान्यताओं और प्रथाओं में गहराई से निहित हैं, और एक समान संहिता लागू करने का कोई भी प्रयास धार्मिक समुदायों की स्वायत्तता को कमजोर कर देगा। आलोचकों का तर्क है कि व्यक्तिगत कानून धार्मिक अल्पसंख्यकों के लिए पहचान, समुदाय और निरंतरता की भावना प्रदान करते हैं, और उन्हें बदलने का कोई भी प्रयास उनके धार्मिक अधिकारों पर अतिक्रमण के रूप में देखा जाएगा।

यूसीसी से देश में संभावित बदलाव

यूसीसी के विरोधियों द्वारा उठाई गई प्राथमिक चिंताओं में से एक यह है कि यह भारत की सांस्कृतिक विविधता को कमजोर कर सकता है। देश को अपनी समृद्ध विरासत और कई धार्मिक और सांस्कृतिक परंपराओं के सह-अस्तित्व पर गर्व है। विविधता के समर्थकों का तर्क है कि व्यक्तिगत कानून विभिन्न समुदायों की विशिष्ट पहचान और प्रथाओं को दर्शाते हैं, और एकरूपता की दिशा में कोई भी कदम भारतीय समाज की विशिष्टता और बहुलता को नष्ट कर देगा।

एक और महत्वपूर्ण चिंता यह है कि समान नागरिक संहिता के कार्यान्वयन से भारत जैसे बहुलवादी समाज में धार्मिक समुदायों के बीच नाजुक संतुलन बिगड़ सकता है। देश का धर्मनिरपेक्ष ताना-बाना धार्मिक मतभेदों का सम्मान करने और उन्हें समायोजित करने के सिद्धांत पर निर्भर करता है। आलोचकों का तर्क है कि समान संहिता लागू करने से सांप्रदायिक तनाव पैदा हो सकता है और सामाजिक एकता में बाधा आ सकती है। उनका तर्क है कि व्यक्तिगत कानून सदियों से विकसित हुए हैं, जिन्हें प्रत्येक समुदाय के रीति-रिवाजों, परंपराओं और धार्मिक ग्रंथों द्वारा आकार दिया गया है, और उन्हें एक समान कोड के साथ बदलने का कोई भी प्रयास इन गहरी जड़ें जमा चुकी प्रथाओं की उपेक्षा करेगा।

विरोधियों का यह भी तर्क है कि व्यक्तिगत कानून विशिष्ट धार्मिक समुदायों के भीतर समाज के हाशिए पर रहने वाले वर्गों के लिए कुछ सुरक्षा और सुरक्षा उपाय प्रदान करते हैं। उन्हें डर है कि समान नागरिक संहिता इन सुरक्षात्मक प्रावधानों की अनदेखी कर सकती है और कमजोर समूहों को पर्याप्त कानूनी सहायता के बिना छोड़ सकती है। उदाहरण के लिए, मुस्लिम पर्सनल लॉ में तलाकशुदा महिलाओं के भरण-पोषण और कल्याण के प्रावधान हैं, जिन्हें समान नागरिक संहिता के तहत पर्याप्त रूप से संबोधित नहीं किया जा सकता है।

सरकार द्वारा समान नागरिक संहिता (Uniform Civil Code) के संभावित कार्यान्वयन का मध्य प्रदेश, राजस्थान, तेलंगाना और छत्तीसगढ़ में आगामी चुनावों पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ेगा। यदि सरकार को यूसीसी के लिए संसदीय मंजूरी मिल जाती है, तो वह इसे इन राज्य चुनावों में एक केंद्रीय मुद्दे के रूप में पेश कर सकती है, और अगले लोकसभा चुनावों में इसका फायदा उठाने की उम्मीद है।

राज्य जहां पहले से लागू है यूसीसी (UCC States in India)

गोवा समान नागरिक संहिता: यूसीसी कई वर्षों से भारत में बहस का विषय रही है। हालाँकि, छोटे राज्य गोवा में, एक अद्वितीय और प्रगतिशील समान नागरिक संहिता दशकों से लागू है। गोवा नागरिक संहिता, जिसे गोवा परिवार कानून के रूप में भी जाना जाता है, गोवा के सभी निवासियों पर लागू होता है, चाहे उनकी धार्मिक संबद्धता कुछ भी हो। इसे अक्सर बहुलवादी समाज के लिए एक मॉडल के रूप में माना जाता है, जो एक ऐसा ढांचा प्रदान करता है जो लैंगिक समानता को बढ़ावा देता है और धार्मिक रीति-रिवाजों और परंपराओं की विविधता का सम्मान करते हुए व्यक्तिगत अधिकारों की रक्षा करता है।

अन्य लोग राष्ट्रीय स्तर पर समान कोड लागू करने की व्यवहार्यता पर सवाल उठाते हैं। भारत की विविधता, धर्म और संस्कृति दोनों के संदर्भ में, एक समान कोड बनाने में चुनौतियां पेश करती है जो प्रत्येक समुदाय की जटिलताओं और संवेदनशीलता को समायोजित करती है।

Desk Publisher
Desk Publisher is a authorized person of The Goandhigiri. He/She re-scrip, edit & publish the post online. Pls, contact thegandhigiri@gmail.com for any issue.
You May Also Like This News
the gandhigiri news app

Latest News Update

Most Popular