होम Politics | राजनीति AIMIM West Bengal: बिहार जीतने के बाद अब बंगाल है ओवैसी का...

AIMIM West Bengal: बिहार जीतने के बाद अब बंगाल है ओवैसी का अगला टारगेट, इस दिन करेंगे धुआंधार रैली

124
aimim-party-chief-asaduddin-owaisi-rally-in-west-bengal-election-2021
The-Gandhigiri-tg-website-designer-Developer-lucknow

कोलकाता: पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव (West Bengal Election) 2021 की सियासी जंग में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM Party) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) की भी एंट्री हो गई है.

ओवैसी बंगाल में पार्टी के चुनाव अभियान की शुरुआत 25 फरवरी को कोलकाता के अल्पसंख्यक बाहुल्य इलाके मटियाबुर्ज में रैली करके शुरू करेंगे.

बिहार चुनाव में एआईएमआईएम (AIMIM Party) के अच्छे प्रदर्शन से उत्साहित ओवैसी ने बंगाल विधानसभा चुनाव (West Bengal Election) 2021 लड़ने का ऐलान किया है.

एआईएमआईएम चीफ, फुरफुरा शरीफ के मौलवी अब्बास सिद्दीकी के साथ संभावित गठबंधन के लिए बातचीत कर रहे हैं. सिद्दीकी ने हाल ही में इंडियन सेक्युलर फ्रंट (ISF) नाम का संगठन बनाया है.

Pamela Goswami BJP: 10 लाख की कोकीन के साथ भाजपा नेत्री गिरफ्तार, विजय वर्गीय, जेपी नड्डा के साथ फोटो हुई वायरल

पश्चिम बंगाल एआईएमआईएम (AIMIM Party West Bengal) के सचिव जमीरुल हसन ने बताया कि, “पश्चिम बंगाल चुनावी में हमारी एआईएमआईएम पार्टी चीफ असदुद्दीन ओवैसी की राज्य में यह पहली रैली होगी. वह राज्य में पार्टी के चुनाव प्रचार अभियान की शुरुआत करेंगे.”

कोलकाता की मटियाबुर्ज सीट अल्पसंख्यक बाहुल्य है और डायमंड हार्बर लोकसभा सीट के अंतर्गत आती है.

मटियाबुर्ज सीट बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की सुप्रीमो ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी का संसदीय क्षेत्र है.

तमिलनाडु सरकार द्वारा CAA के विरोध में दर्ज 10 लाख केस वापस लेने पर मायावती ने सीएम योगी से क्या कहा?

एआईएमआईएम चुनाव रैली के लिए पोस्टर और नारे “आवाज उठाने का वक्त आ चुका है” के साथ तैयारी कर चुका है.

उधर, असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) की पश्चिम बंगाल रैली (Bengal Rally) को लेकर सत्ताधारी पार्टी तृणमूल कांग्रेस ने कड़ी प्रतिक्रिया दिखाई है.

टीएमसी के वरिष्ठ नेता सौगत रॉय ने कहा, “एआईएमआईएम कुछ नहीं सिर्फ बीजेपी की प्रॉक्सी है. ओवैसी को अच्छे से पता है कि यहां ज्यादा मुस्लिम बंगाली भाषी हैं और उन्हें समर्थन नहीं देंगे. बंगाल में मुस्लिम ममता बनर्जी के साथ मजबूती से खड़ा है.”

अन्य बड़ी खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें

the-gandhigiri-telegram-channel