होम Farmer Protest | किसान आंदोलन 200 आंदोलनकारी किसानों की मौत पर कृषि मंत्री को आ गई हंसी,...

200 आंदोलनकारी किसानों की मौत पर कृषि मंत्री को आ गई हंसी, बोले “ये घर पर होते तो भी मरते”

hariyana-agriculture-minster-jp-dalal-haugh-on-200-farmers-death
The-Gandhigiri-tg-website-designer-Developer-lucknow

भिवानी: नए कृषि कानून को लेकर पिछले ढाई महीने से आंदोलन पर बैठे किसानों के प्रति भाजपा नेतृत्व वाली सरकार के मंत्री कितने चिंतित हैं, इस सवाल का जवाब हरियाणा के कृषि मंत्री जेपी दलाल (JP Dalal) के बायान से अच्छी तरह समझा जा सकता है.

हरियाणा के भिवानी में एक कार्यक्रम के बाद जब कृषि मंत्री जेपी दलाल से पत्रकारों ने आंदोलनरत रहे 200 किसानों की मौत पर सवाल पूछा तो उन्होंने जवाब दिया, ‘ये घर पर होते तो भी मरते’ फिर खिलखिला कर हंसने लगे.

 


हरियाणा की भाजपा सरकार के कृषि मंत्री जेपी दलाल (JP Dalal) ने अपने विवादित बयान में आगे कहा कि लाख-दो लाख में से छः महीने में 200 नहीं मरते क्या?

आगे पत्रकार ने सवाल किया कि 10 एक्सीडेंट में मर जाये तो प्रधानमंत्री शोक व्यक्त करते हैं, 200 किसान मर जाये तो कोई बात नहीं?

इस पर कृषि मंत्री जवाब देते हुए कहते है कि यह किसान एक्सीडेंट में नहीं मरे, स्वयंक्षा से मरे हैं. इसके बाद किसानों की मौत पर संवेदना प्रकट करते हुए कृषि मंत्री को एक बार फिर हंसी आ जाती है.

पुलिस अधिकारी ने जब दीप सिद्धू से पूछा, “तुम वीडियो में लोगों को भड़काते नजर आ रहे हो?” इस पर दीप ने कहा, “वो तो करना पड़ता है”

भाजपा शासित राज्य हरियाणा के कृषि मंत्री जेपी दलाल की यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद उन्हें सफाई देना पड़ा.

दलाल ने सफाई में कहा कि उनकी बातों को तोड़-मरोड़ कर दिखाया गया है. मेरे बयान से अगर किसी की भावनाएं आहत हुई हैं तो वो माफी चाहते हैं.

कृषि मंत्री ने वीडियो वायरल होने के बाद पुराने सधे हुए राजनीतिक रीति-रिवाज के साथ सफाई देते हुए माफ़ी तो मांग ली, लेकिन वीडियो में 200 किसानों की मौत पर उनकी हंसी हकीकत बयान कर चुकी है.

अन्य बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

the-gandhigiri-telegram-channel