Home Politics | राजनीति तेज प्रताप ने कहा- पहले पीएम मोदी टीका लगवाएं, तब हम लोग...

तेज प्रताप ने कहा- पहले पीएम मोदी टीका लगवाएं, तब हम लोग भी लगवाएंगे

पटना: भारत में कोरोना वैक्‍सीन (Corona Vaccine India) लगवाने को लेकर विपक्षी नेता लगातार भाजपा पर हमलावर हैं। उनके निशाने पर खासतौर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रहे हैं।

बिहार के पूर्व स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री और राजद सुप्रीमो लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप ने चौंकाने वाला बयान दिया है।

उन्‍होंने कहा, सबसे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना का टीका लें इसके बाद ही हमलोग भी वैक्‍सीन लगवाएंगे।

पूरे देश में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए वैक्‍सीन का ड्राई रन चल रहा है।

हर प्रदेश अपनी तैयारियों को परख रहा है, ताकि कोरोना वैक्‍सीनेशन अभियान बिना किसी बाधा के चलाया जा सके।

दूसरी तरफ, इस पर राजनीतिक बयानबाजी भी शुरू हो गई है।

राजद नेता तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) से पहले सपा प्रमुख और उत्‍तर प्रदेश के पूर्व सीएम अखिलेश यादव भी भारत में बनी कोरोना वैक्‍सीन (Corona Vaccine India) को लेकर विवादित बयान दे चुके हैं।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने लखनऊ में कहा था, ‘मैं भाजपा की कोरोना वैक्सीन नहीं लगवाऊंगा, क्योंकि मुझे भाजपा पर भरोसा नहीं है।’

अखिलेश ने भाजपा पर तंज कसते हुए कहा, ‘जो सरकार ताली और थाली बजवा रही थी, वो वैक्सीनेशन के लिए इतनी बड़ी चेन क्यों बनवा रही है। ताली और थाली से ही कोरोना को भगवा दें ना।’

बिहार के 38 जिलों में कोरोना वैक्सीन के दूसरे फेज का ड्राई रन

बता दें कि, बिहार में शुक्रवार को राज्य के 38 जिलों में दूसरे चरण का ड्राई रन शुरू हुआ। सभी जिलों में 25-25 लोगों को टीके की डोज दी जा रही है।

पटना के पीएमसीएच, एनएमसीएच, पारस और खगौल में टीकाकरण का ड्राई रन किया जा रहा है। उम्‍मीद है कि देश में कोरोना टीकाकरण अगले हफ्ते से शुरू होगा।

इसके पहले सभी तैयारियों को ठोंक बजाकर ठीक कर लेने के उद्देश्‍य से ड्राई रन (Mock Drill) किया जा रहा है।

भारत सरकार ने कोरोना की दो वैक्‍सीन ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्रेजेनेका की कोविशील्ड (Covishield) और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन (Covaxin) को इंमरजेंसी इस्तेमाल के लिए मंजूरी दी है।

इस बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से कहा है कि उन्हें कोरोना टीके की पहली खेप जल्द ही मिल सकती है।

बिहार, उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, असम, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, झारखंड, कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु, तेलंगाना और पश्चिम बंगाल। अन्‍य 18 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को उनके संबंधित सरकारी मेडिकल डिपो से वैक्‍सीन मिलेगी।

इनमें अरूणाचल प्रदेश, अंडमान निकोबार द्वीप समूह, चंडीगढ़, दमन और नागर हवेली, दमन और दीव, गोवा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर, लद्दाख, लक्षद्वीप, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड, पुडुचेरी, सिक्किम, त्रिपुरा और उत्तराखंड शामिल हैं।

कोरोना टीकाकरण अलग-अलग चरणों में चलेगा। सबसे पहले देश के करीब एक करोड़ स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों को वैक्‍सीन की खुराक दी जाएगी।

इसमें सरकारी और प्राइवेट दोनों क्षेत्रों में सेवा देने वाले कर्मचारी शामिल हैं।

स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों को भी अलग-अलग श्रेणियों में बांटा गया है- फ्रंट लाइन, ICDS, नर्स, सुपरवाइजर, मेडिकल ऑफिसर, पारामेडिकल स्टाफ, स्पोर्ट स्टाफ और स्टूडेंट।

इसके बाद केंद्र और राज्य सरकार के फ्रंटलाइन कर्मचारियों को टीका लगाया जाएगा। इसके बाद वरिष्‍ठ नागरिकों यानी 60 वर्ष से ऊपर की उम्र के लोगों को टीका लगाया जाएगा।

Exit mobile version