इस प्रदेश की बीजेपी सरकार टीपू सुल्तान का इतिहास मिटाने जा रही है

बीजेपी सरकार, टीपू सुल्तान का इतिहास, टीपू सुल्तान, सिद्धरमैया, टीपू जयंती, कर्नाटक, मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा, बीएस येदियुरप्पा, मैसूर साम्राज्य, BJP government, History of Tipu Sultan, Tipu Sultan, Siddaramaiah, Tipu Jayanti, Karnataka, Chief Minister BS Yeddyurappa, BS Yeddyurappa, Kingdom of Mysore,

बेंगलुरु: हिंदुस्तान के पहले क्रांतिकारी और मिसाइलमैन के नाम से मशहूर महान शासक टीपू सुल्तान (Tipu Sultan) से संघ (RSS) की दुश्मनी पुरानी है। इसी के चलते संघ अपनी राजनीतिक इकाई बीजेपी (BJP) की सत्ता ताकत का इस्तेमाल कर के टीपू सुल्तान का इतिहास मिटाना चाहती है। दरअसल संघ उन सभी महान और गौरवशाली मुस्लिम शासकों का नाम इतिहास से मिटाना चाहती है जिसके चलते जिनकी वजह से संघ की कथित देशभक्ति पर सवाल उठते रहते हैं।

कर्नाटक (Karnataka) के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा (BS Yeddyurappa) ने टीपू सुल्तान की जयंती को लेकर कहा कि उनकी सरकार सब कुछ हटाने वाले हैं। उन्होंने कहा कि किताबों में उनके बारे में जो कुछ लिखा है उसे भी हटाने के बारे में सोचा जाएगा।

बीजेपी सरकार, टीपू सुल्तान का इतिहास, टीपू सुल्तान, सिद्धरमैया, टीपू जयंती, कर्नाटक, मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा, बीएस येदियुरप्पा, मैसूर साम्राज्य, BJP government, History of Tipu Sultan, Tipu Sultan, Siddaramaiah, Tipu Jayanti, Karnataka, Chief Minister BS Yeddyurappa, BS Yeddyurappa, Kingdom of Mysore,

बीएस येदियुरप्पा (BS Yeddyurappa) ने जुलाई में कन्नड़ और संस्कृति विभाग को टीपू जयंती (Tipu Sultan Birth Anniversary) नहीं मनाने का आदेश दिया था।

इस आदेश को 29 जुलाई को कैबिनेट की बैठक में जारी किया गया था। इस फैसले को लेकर सियासी घमासान मच गया था।

कांग्रेस नेता व पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने इसे लेकर भाजपा पर हमला करके उसे सांप्रदायिक पार्टी करार दिया था।

the gandhigiri app download, thegandhigiri  

गौरतलब है कि, पूर्ववर्ती मैसूर साम्राज्य के 18वीं सदी के महान शासक टीपू सुल्तान की जयंती पर आयोजित होने वाले वार्षिक समारोह को कनार्टक की भाजपा सरकार ने 30 जुलाई को रद्द कर दिया था।

राज्य में इस समारोह का आयोजन 2015 से हो रहा था। येदियुरप्पा के नेतृत्व वाली बीजेपी सरकार (BJP Government) ने सत्ता में आने के तीन दिन के अंदर ही टीपू की जयंती न मनाने का आदेश पारित किया था।

सिद्धरमैया के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने 2015 में टीपू जयंती (Tipu Sultan Birth Anniversary) के अवसर पर 10 नवंबर को वार्षिक समारोह के आयोजन की शुरुआत की थी।

भाजपा और अन्य के विरोध के बावजूद एचडी कुमारस्वामी के नेतृत्व वाली कांग्रेस-जेडीएस की गठबंधन सरकार ने पिछले साल भी इसे जारी रखा था।

यह भी पढ़ें: मोदी दक्षिणपंथी विचारधारा से जुड़े यूरोपियन सांसदों को कश्मीर बुला कर क्या साबित करना चाहते हैं?

यह भी पढ़ें: करतारपुर: भारत ने पाक को सौंपी मनमोहन सिंह-अमरिंदर समेत 575 लोगों की सूची

the gandhigiri, whatsapp news broadcast

Manish Murya is native of Azamgarh district of Uttar Pradesh state in India. He is under trainee for correspondent. He works as freelancer. Contact him via mail mauryamaneesh333@gmail.com or call him at +91-7348594530