एनआरसी पर नीतीश कुमार ने बयान देकर मोदी-शाह को हिला डाला

एनआरसी, नीतीश कुमार, मोदी-शाह, NRC, Nitish Kumar, Modi-Shah

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने कहा कि बिहार (Bihar) में राष्ट्रीय नागरिकता पंजी (NRC) को लागू नहीं किया जाएगा। नीतीश ने विधानसभा के विशेष सत्र में कहा कि सदन के अंदर हर मुद्दे पर चर्चा होनी चाहिए, जहां तक एनआरसी का प्रश्न है तो उसे बिहार में लागू करने का सवाल ही नहीं उठता है।

नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने कहा कि जब केंद्र में राजीव गांधी की सरकार थी तब असम के संदर्भ में एनआरसी (NRC) की बात हुई थी लेकिन पूरे देश के लिए इसकी बात कभी हुई ही नहीं है।

बिहार के मुख्यमंत्री (Bihar CM) ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस बारे में स्पष्ट कर दिया है। ऐसे में अब एनआरसी (NRC) पर चर्चा करने का कोई औचित्य नहीं है।

उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) पर राज्य ने सहमति दी है लेकिन बीच में कुछ नया जोड़ा गया है तो इस पर भी सदन में चर्चा हो सकती है। अभी एनपीआर का काम तीन-चार महीने बाद ही शुरू होगा।

नीतीश ने कहा कि वह जातीय आधार पर जनगणना कराए जाने के पक्षधर हैं। वर्ष 1930 के बाद देश में जातीय आधार पर जनगणना नहीं हुई है।

वर्ष 2010 में भी इस संबंध में मांग उठी थी लेकिन उस समय जातीय आधार पर जो जनगणना हुई उसके आंकड़े प्रकाशित नहीं हुए लेकिन उनका मत है कि एक बार यह काम हो जाना चाहिए।

नीतीश ने कहा कि धर्म के आधार पर जनगणना होती है, अनुसूचित जाति-जनजाति के अंदर भी जितनी उपजातियां हैं उसकी भी जनगणना होती है तो फिर जातीय आधार पर जनगणना कराने में क्या समस्या हो सकती है।

उन्होंने कहा कि वह इस संबंध में सार्वजनिक तौर पर कहते रहे हैं कि यदि सदन में इस पर चर्चा हुई तो बिहार की भावना से भी केंद्र को अवगत कराया जाएगा।

यह भी पढ़ें: विवेकानंद जयंती पर पीएम मोदी ने CAA पर इस तरह दी सफाई

the gandhigiri app download, thegandhigiri  
Dipak Pandey is freelancer journalist from Lucknow district of Uttar Pradesh state in India. He is native of Allahabad district. He has worked with many reputed news channels and digital media platform. Contact him with email : dp362031@gmail.com, or mobile : 9125516663.