Home Rajnitik Khabar बाहुबली राजा भैया ने अपने विधायक आवास पर खोला जनसत्ता दल लोकतांत्रिक...

बाहुबली राजा भैया ने अपने विधायक आवास पर खोला जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी का प्रदेश कार्यालय

8
जनसत्ता दल लोकतांत्रिक, कुंडा विधानसभा, रघुराज प्रताप सिंह, राजा भैया प्रतापगढ़, Raghuraj Pratap Singh, Raja Bhaiya pratapgarh, Jansatta Dal Loktantrik Party, jansatta dal lucknow office, jansatta dal office address, jansatta dal party

प्रतापगढ़ के बाहुबली विधायक रघुराज प्रताप सिंह उर्फ़ राजा भैया (Raghuraj Pratap Singh urf Raja Bhaiya) ने राजधानी लखनऊ में अपनी जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी कार्यालय (Jansatta Dal Loktantrik Party) का उद्घाटन किया। राजा भैया ने लखनऊ के बहुखंडी सी ब्लॉक इमारत में स्थित अपने विधायक निवास को ही अपनी पार्टी का प्रदेश कार्यालय बनाया। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रघुराज प्रताप सिंह उर्फ़ राजा भैया ने फीता काटकर कार्यालय का उद्घाटन किया। इस दौरान जनसत्ता दल के तमाम पदाधिकारी और कार्यकर्ता मौजूद रहे।

6 बार जीते निर्दलीय चुनाव

रघुराज प्रताप सिंह उर्फ़ राजा भैया (Raghuraj Pratap Singh urf Raja Bhaiya) प्रतापगढ़ कुंडा विधानसभा से लगातार 6 बार चुनाव जीत निर्दलीय विधायक रहे हैं. कभी भाजपा तो कभी सपा सरकार में उन्होंने मंत्री पद तो संभाला लेकिन परमानेंट किसी पार्टी से नहीं जुड़े रहे.

यह भी पढ़ें: बीजेपी शासन में सामाजिक संगठन के लोग घरों में प्रेस कांफ्रेंस करने पर हुए मजबूर

राजा भैया उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह और राजनाथ सिंह की भाजपा सरकार में कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्री का पद संभाल चुके हैं. वहीं, अखिलेश सरकार ने भी उन्हें खाद्य और नागरिक आपूर्ति विभाग का मंत्री बनाया था.

the-gandhigiri-news-app-may-2020

पिछले 2017 विधानसभा चुनाव में उन्होंने भाजपा उम्मीदवार जानकी शरण को एक लाख से अधिक भारी मतों से मात दी थी. हाल ही में प्रदेश की बीजेपी सरकार के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ भी दिखे थें. लेकिन शायद इस बार राजा भैया की बात नहीं बनी.

कैसे जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी को मज़बूत करेंगे?

शुरू से ही निर्दलीय चुनाव जीतने वाले रजवाड़े घराने में जन्मे रघुराज प्रताप सिंह ने शायद पहले से ही खुदकी पार्टी बनाने का फैसला कर रखा था. इसीलिए भाजपा और सपा सरकार में मंत्री पद संभालने के बावजूद उन्होंने कभी किसी पार्टी को परमानेंट ज्वाइन नहीं किया.

निर्दलीय रहकर सत्ता पक्ष से हाथ मिलाये रखने की नीति को विस्तृत रूप देते हुए अब पार्टी के ज़रिये खुद का कद बढ़ाने की कोशिश भी जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी (Jansatta Dal Loktantrik Party) का निर्माण हो सकता है. संभवता राजा भैया के लिए भविष्य में सपा या भाजपा दोनों में से किसी एक को अपनी पार्टी के ज़रिये समर्थन देकर दूसरे को नाराज़ करने जैसा काफी मुश्किल फैसला लेना होगा.

अन्य ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें