Home Dharm दक्षिण में जनेऊधारी बुज़ुर्ग ब्राह्मण को मोब लिंचिंग के बाद जबरन डांस...

दक्षिण में जनेऊधारी बुज़ुर्ग ब्राह्मण को मोब लिंचिंग के बाद जबरन डांस कराने का सच

11
वृद्ध ब्राह्मण डांस, वृद्ध ब्राह्मण मोब लिंचिंग वीडियो, संकरा मठ मंदिर, पेरियार प्रतिमा डांस, old brahmin dancing on periyar statue, old brahman mob lynching in south,

सोशल मीडिया पर दस सेकेंड का एक वीडिया वायरल हुआ है. इस वीडियो में जनेऊधारी एक बुज़ुर्ग ब्राह्मण को मोब लिंचिंग के बाद जबरन डांस कराने की बात कही जा रही है. इस वीडियो को Dev Oza (@DevOza7) के ट्वीटर हैंडल से पोस्ट किया गया है. इसमें लिखा है कि, ‘‘एक वृद्ध ब्राह्मण की पहले यग्योपवित (जनेऊ) काटी फिर कपड़े उतार कर भीड़ ने डांस करने के लिए मजबूर किया। यह स्थिति है दक्षिण के @INCIndia शासित राज्यों की, @RahulGandhi जी क्या यह अल्पसंख्यक ब्राह्मणों के साथ मोब लिंचिंग नही है?’’.

 

देव ओज़ा ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई, जी न्यूज़ के एंकर सुधीर चैधरी के साथ ही पीएम मोदी और अमित शाह तक को टैग कर डाला. करीब 6 हज़ार लोग इस वीडियो पर चर्चा भी कर रहे हैं. लेकिन ओजा ने वीडियो के साथ जो लिखा क्या सच में ऐसा हुआ है?

यह भी पढ़ें: क्या आंध्रप्रदेश के नये सीएम जगन मोहन रेड्डी ने ईसाईयत छोड़ अपनाया हिन्दू धर्म?

the-gandhigiri-news-app-may-2020

ओज़ा के ट्वीट को बीजेपी सांसद बलबीर पुंज और बाद में आरबीआई डायरेक्टर एस. गुरूमूर्ति ने भी शेयर किया. इसके अलावा फेसबुक पर भी इस वीडियो को काफी शेयर किया गया. लेकिन इसकी हकीकत किसी ने जानने की कोशिश नहीं की.

 

सच और झूठ का खुलासा

ऑल्ट न्यूज की पड़ताल में वीडियो को सही पाया गया लेकिन देव ओज़ा का दावा पूरी तरह से झूठा निकला. दरअसल, ओरिजिनल वीडियो कई सोशल मीडिया प्लेटफाॅर्म पर पहले ही अप्लोड कर शेयर किया था. इसमें से एक यूट्यूब पर भी अप्लोड है. इस वीडियो में दर्जनों लोग ढोल नगाड़े के साथ पेरियार की तस्वीर वाले झंडे लिए नाच रहे हैं.

 Watch Original Video

यह लोग ऐसा तमिल समाज सुधारक पेरियार को श्रद्धांजली देने के लिए कर रहे थें. अचानक एक वृद्ध ब्राह्मण उनके बीच आकर पेरियार को श्रद्धांजली देते हुए नाचने लगता है. सभी लोग उस बुजुर्ग का उत्साह बढ़ाते हुए साथ में नाचने लगते हैं.

यह भी पढ़ें: क्या सच में सऊदी अरब सरकार ने अरबी में भगवद् गीता छपवाई है?

यह वीडियो पिछले महीने कुछ संगठनों द्वारा संकरा मठ मंदिर के पास बने पेरियार प्रतिमा के पास की है. इसी वीडियो की करीब दस सेकेंड की क्लिप निकाल कर झूठे संदेश के साथ इसे सोशल मीडिया पर शेयर किया गया.

अन्य ख़बरें पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें