होम Social Media Viral | सोशल मीडिया वायरल क्या आपके मास्क में छिपे हैं सूक्ष्म कीड़े? जानिए क्या है इन...

क्या आपके मास्क में छिपे हैं सूक्ष्म कीड़े? जानिए क्या है इन वीडियो की हकीकत

The-Gandhigiri-tg-website-designer-Developer-lucknow

पुलिसकर्मियों की मौजूदगी में एक शख्स डिस्पोजेबल सर्जिकल मास्क (Surgical Mask) को आग लगा रहा है. दो मिनट के इस वायरल वीडियो में वो शख्स दावा कर रहा है कि मास्क में काले रंग के सूक्ष्म कीड़े (Micro Worm) हैं जो COVID-19 का कारण बनते हैं। वीडियो के दूसरे भाग में गरम पानी के भाप में रखने पर मास्क के अंदर काले रंग के सूक्ष्म कृमि (कीड़े) दिखाई देने की बात कही जा रही हैं।

उस सख्श का कहना है कि मास्क पर काले कीड़े (Micro Worm) गर्मी करने पर बाहर निकलते हैं। वो कहता है कि जब सर्जिकल मास्क (Surgical Mask) पहना जाता है तब हमारे मुंह से निकलती गर्म हवा के कारण भी वे कीड़े बाहर निकल आते हैं। इसके साथ ही जब हम साँस लेते हैं तो कीड़े हमारे शरीर में प्रवेश करते हैं।

यह भी पढ़ें: Mohammad Shahabuddin की कोरोना से मौत की खबर, सच या भ्रम ?

उस सख्श यह भी दावा कर रहा है कि ज्यादातर लोगों की मृत्यु मास्क पहनने के कारण हुई है, उसका कहना है कि यह पैसा बनाने की एक वैश्विक साजिश है। बाद में वो लोगों से सिफारिश करता है कि केवल घर का बना मास्क पहनिए।

इस वीडियो को एक संदेश के साथ फेसबुक, वाट्सऐप और कई तरह से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर शेयर किया जा रहा है, “ये वीडियो बहुत ही तेजी से वायरल हो रहा है देखिए इस वीडियो वाले मास्क मे किस तरह से कीड़े होते हैं और बताया ये भी जा रहा है कि इसी वजह से वायरस और तेजी से फैल रही है”.

यह भी पढ़ें: म्यांमार: रोहिंग्या नरसंहार पर जो सेना की तारीफ करते थे, आज वही सेना को “आतंकवादी” कह रहे हैं

इसी तरह का दावा न सिर्फ भारत बल्कि विभिन्न देशों में और विभिन्न भाषाओं में भी किया जा रहा है। कई वैज्ञानिकों ने इसे गलत जानकारी बताते हुए कहा है कि काले कृमि जैसे पदार्थ मास्क के हानिरहित माइक्रोफाइबर घटक हैं।

4 अप्रैल को, एक YouTube चैनल MPT ने भी वही दावे को बढ़ा-चढ़ा कर दिखाते हुए एक वीडियो अपलोड किया। यह वीडियो एक लाख से अधिक बार देखा गया है।

सोशल मीडिया के दावे के अनुसार, काले “कीड़े” (Micro Worm) सर्जिकल मास्क (Surgical Mask) को केवल गरम करने पर ही दिखाई देते हैं। लेकिन ऑल्ट न्यूज़ ने ऐसे ही एक मास्क की जांच की और पाया कि मास्क को बिना गर्म किये हाई रिजोल्यूशन मोबाइल फोन के कैमरे को ज़ूम कर काले माइक्रो-फाइबर स्ट्रैड को मास्क पर देखा जा सकता है।

black-worms-bugs-in-surgical-mask

क्या है सर्जिकल मास्क में छिपे कीड़ों की हकीकत ?

YouTube चैनल Microbehunter ने मेडिकल सर्जिकल फेस मास्क का विश्लेषण करते हुए एक वीडियो अपलोड किया है। यह चैनल ऑलिवर द्वारा संचालित है, जो माइक्रोबायोलॉजी और आणविक जीवविज्ञान में स्नातक है। वह वर्तमान में एक माध्यमिक स्कूल में जीव विज्ञान शिक्षक के रूप में काम कर रहे है। उन्होंने अपने पोर्टेबल माइक्रोस्कोप के माध्यम से दिखाई देने वाले माइक्रोफाइबर स्ट्रैंड्स को दिखाया है।

उन्होंने जांच के बाद यह साफ किया कि सर्जिकल मेडिकल मास्क (Surgical Medical Mask) में किसी तरह का कीड़ा नहीं है, बल्कि यह काले रंग के माइक्रोफाइबर स्ट्रैंड्स हैं। उन्होंने बताया कि इस तरह के माइक्रोफाइबर सभी प्रकार के मास्क और कपड़ों में भी होते हैं।

यह भी पढ़ें: “कोरोना जिहाद” प्रोपेगेंडा पर मुस्लिमों को बदनाम करने वाले गोदी मीडिया एंकर रोहित सरदाना की COVID -19 से दर्दनाक मौत

माइक्रोफाइबर स्ट्रैंड्स के किसी जीवित सूक्ष्म कृमि (कीड़े) की भांति हरकर करने पर उन्होंने बताया कि यह जीवित नहीं होते हैं, बल्कि हमारी सांस, स्थैतिक ऊर्जा, या अगर मास्क गर्म पानी के साथ एक कप के शीर्ष पर रखा जाता है, तो भाप और शारीरिक प्रक्रियाओं के कारण ही यह हरकत करते हैं। ठीक उसी तरह जिस तरह एक निर्जीव पतंग को किसी पक्षी की तरह हवा में उड़ाया जाता है।

ऑलिवर अपनी वीडियो में 5:49 के निशान पर यह भी दिखाया कि सूक्ष्म कीड़े वास्तव में कैसे दिखते हैं और कितनी तेजी से हरकत करते हैं। वे बताते हैं कि सूक्ष्म कीड़े ज्यादातर जल निकायों में मौजूद होते हैं।

डब्ल्यूएचओ दो प्रकार के मास्क पहनने की सलाह देता है

1- फ्रंटलाइन वर्कर्स के लिए मेडिकल मास्क (Surgical Medical Mask), 60 साल से अधिक उम्र के लोग, जिनमें कॉमरेडिटीज हैं, जिन्हें सीओवीआईडी के लक्षण हैं या सीओवीआईडी -19 के लिए सकारात्मक परीक्षण किया गया है।

2- गैर-चिकित्सा, कपड़े मास्क (Cotton Mask) का उपयोग आम जनता 60 वर्ष से कम आयु में कर सकती है और जिनके पास अंतर्निहित स्वास्थ्य स्थितियां नहीं हैं। कुछ अध्ययनों से डबल मास्किंग या एन 95 मास्क की भी सलाह दी जाती है।

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय भी सभी तरह के मास्क पहनने की सलाह देता है।

 

वीडियो में दावा किया गया है कि कुछ मास्क में काले कीड़े होते हैं जिसके कारण COVID-19 संक्रमण तेजी से फैल रहा है और लोगों की मौत हो रही, जो कि पूरी तरह से झूठ है। वैज्ञानिकों ने स्पष्ट किया है कि ये हानिरहित माइक्रोफाइबर घटक हैं। दावा पहले AFP द्वारा तथ्य-जाँच किया गया था।

अन्य बड़ी खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें

the-gandhigiri-telegram-channel