होम Business | व्यापार CNG Tractor: आ गया देश का पहला स्वदेशी सीएनजी ट्रैक्‍टर, वार्षिक एक...

CNG Tractor: आ गया देश का पहला स्वदेशी सीएनजी ट्रैक्‍टर, वार्षिक एक लाख रुपए तक की बचत मुमकिन

indian-cng-tractor-launched-by-union-road-transport-minister-nitin-gadkari
The-Gandhigiri-tg-website-designer-Developer-lucknow

नई दिल्ली: भारत में पहली बार कंप्रेस्ड नेचुरल गैस (CNG) पर चलने वाला ट्रैक्‍टर (Tractor) आ गया है। अब जल्द खेतों में पुराने डीजल ट्रैक्टर की जगह नए ट्रैक्‍टर ले लेंगे। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के अनुसार देश का ये पहला सीएनजी ट्रैक्‍टर है।

एक किसान को अपने डीजल से चलने वाले ट्रैक्टर पर हर साल 3.5 लाख रुपये तक खर्च करने पड़ता हैं। सीएनजी ट्रैक्टर 55 प्रतिशत तक खर्च कम करेगा।

दिलचस्प बात यह है कि केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने 2012 में डीजल ट्रैक्टर खरीदा था जिसे सीएनजी-पावर्ड में बदल दिया गया है। मॉडल को 6 महीने तक कठोरता से परीक्षण किया गया था।

करोड़ों यूजर्स की नाराजगी का टेलीग्राम को मिला फायदा, आखिरकार घबराये व्हाट्सएप ने भी घुटने टेके

इस मौके पर गडकरी ने भारत के सीएनजी ट्रैक्‍टर (CNG Tractor) का अनावरण किया और कहा कि इससे किसानों को आत्मनिर्भर बनाने में मदद मिलेगी। सीएनजी ट्रैक्टर किसानों को आत्मनिर्भर होने का अधिकार देगा।

ट्रैक्‍टर को लेकर दावा किया जा रहा है ये ट्रैक्‍टर किसान को ट्रैक्‍टर के ईधन की लागत का वार्षिक लगभग एक लाख रुपए की बचत करवाएगा।

रावमैट टेक्नो सॉल्यूशंस और टॉमासेटो ऐशिल इंडिया (Ravamat Techno Solutions and Tomaseto Ashil India) की ओर से संयुक्त रूप से विकसित इस ट्रैक्टर से किसानों की लागत कम करने और ग्रामीण भारत में रोजगार के अवसर उत्‍पन्‍नह करने में भी मदद करेगा।

सीएनजी ट्रैक्टर (CNG Tractor) अधिक सुरक्षित है क्योंकि इसके टैंक पर कड़ी सील लगी हुइ है जिस कारण इसमें ईधन भरते समय टैंक फटने का खतरा न के बराबर होता है।

करीब 1.2 करोड़ वाहन पहले से ही प्राकृतिक गैस से संचालित हैं और हर दिन और अधिक कंपनियां और नगर पालिकाएं सीएनजी की तरफ बढ़ रही हैं।

डीजल के मुकाबले सीएनजी में कार्बन उत्सर्जन में 70 फीसदी की कमी होती है। जिससे किसानों को ईंधन की लागत में भी 50 प्रतिशत तक की बचत होगी।

अन्य बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें