e challan up, e challan lucknow, e chalan, e challan check, e challan download report, e challan helpline number up, e challan kaise check kare, e challan online payment, e challan up police, e chalan .com, e chalan gov.in, e challan bhugtan, Online challan in up, Online challan check lucknow, Online challan kaise pata kare, Online challan bhugtan, Online challan kaise jama kare, Online challan bike, Online e challan, e challan up police, ऑनलाइन चालान, ऑनलाइन चालान पेमेंट, ऑनलाइन चालान चेक, ऑनलाइन चालान भुगतान,ऑनलाइन चालान पेमेंट up, ऑनलाइन चालान कैसे होता है, ई चालान यूपी, ई चालान, ई चालान क्या है,

ई चालान या ऑनलाइन चालान कैसे होता है… भुगतान कैसे करें?

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में इन दिनों ई चालान (e chalan) के चलते यातायात नियमों का उल्लंघन करने वालों के दिलों में डर बैठ गया है। अब बिना हेलमेट, अतिरिक्त सवारी, ट्रिप्लिंग, रॉन्ग साइड और ट्रैफिक सिग्नल तोड़ने वालों की तस्वीर चौराहों पर लगे हाई रिज़ॉल्यूशन कैमरों में कैद हो जाती है। इस कैमरे की मदद से गाड़ी का नंबर प्लेट आसानी से पढ़ा जा सकता है। गाड़ी के नंबर और आरटीओ (RTO) विभाग की मदद से उसके मालिक की पूरी जानकारी निकल आती है। इस तरह आपको पता भी नहीं चलेगा और आपके मोबाइल पर ऑनलाइन चालान (online chalan) कटने का मैसेज आ जायेगा।

ऑनलाइन चालान कैसे चेक करें?

ई चालान कटने के बाद भुगतान के लिए वाहन मालिक के मोबाइल पर एक मैसेज आएगा। इस मैसेज में चालान संख्या, वाहन संख्या, जुर्माना राशि और एक लिंक दिया होगा।

online-chalan-message

उस लिंक पर क्लिक करते ही ट्रैफिक विभाग की वेबसाइट echallan.parivahan.gov.in पर चले जायेंगे जहां चालान संख्या, वाहन संख्या या डीएल नंबर डाल कर अपना चालान चेक कर सकते हैं।

online-chalan-status-check

the gandhigiri app download, thegandhigiri  

ऑनलाइन चालान (Online Chalan) में आपका नाम, पता, मोबाइल नंबर से लेकर सभी जानकारी रहती है। इसमें चालान काटने की वजह, धारा, जुर्माना राशि, फोटो साक्ष्य, और ज़रूरी निर्देश दिए गए होते हैं। आप चाहें तो पीडीएफ फॉर्मेट में चालान को डाउनलोड भी कर सकते हैं।

online chalan download pdf, e challan download report

ई चालान कटने के बाद क्या करें?

ई चालान (e chalan) भुगतान के लिए ट्रैफिक विभाग की वेबसाइट पर जाएं। वहां स्टेटस चेक करें। इसके बाद जुर्माना राशि का ऑनलाइन भुगतान करें जिसमें आपके रजिस्टर्ड नंबर पर पुष्टि के लिए पहले ओटीपी (One Time Password) जायेगा फिर उसके बाद आगे का प्रोसेस चालू होगा।

यदि ऑनलाइन चालान भुगतान नहीं कर सकते तो क्षेत्रीय सीओ ऑफिस या एसपी ट्रैफिक ऑफिस जाकर भुगतान कर सकते हैं। बता दें कि, वाहन चालक या कंडक्टर का साक्ष्य प्रस्तुत करने के लिए 7 दिनों का समय दिया जाता है।

यदि साक्ष्य प्रस्तुत करने में असफल होते हैं तो 500 रूपये का जुर्माना या 3 महीने तक की जेल या दोनों हो सकते हैं। वहीं, चालान का भुगतान करने के लिए 15 दिनों का समय दिया जाता है। समयावधि पूरी होने के बाद मामला सिविल कोर्ट भेज दिया जाता है।

यह भी पढ़ें: देखिये, दबंगई से पब्लिक का चालान काटने वाली पुलिस का कैसे उलटा कट गया चालान

अन्य ख़बरों के लिए यहां क्लिक करें

Leave a Reply