होम Crime | अपराध लखनऊ: रिश्वत लेते एन्टी करप्शन टीम के हत्थे चढ़ा रिश्वतखोर बाबू

लखनऊ: रिश्वत लेते एन्टी करप्शन टीम के हत्थे चढ़ा रिश्वतखोर बाबू

anti-corruption-team-arrest-clerk-taking-bribe
The-Gandhigiri-tg-website-designer-Developer-lucknow

लखनऊ। एन्टी करप्शन आर्गनाईज़ेशन भ्रष्टाचार निवारण संगठन की टीम ने आज खाद्य सुरक्षा औषधि प्रशासन कार्यालय के एक ऐसे रिश्वतखोर बाबू को 40 हज़ार रूपए की रिश्वत लेते हुए रंगे गिरफ्तार कर हवालात मे भेज दिया है। बाबू ने आन लाईन किए गए दवा की दुकान के लाईसेन्स पर अपनी रिपोर्ट लगाने के एवज़ मे 40 हज़ार रूपए की रिश्वत मांगी थी।

भ्रष्टाचार निवारण संगठन के एसएसपी राजीव मल्होत्रा ने बताया कि हरि मैरेज लान जंगल तुलसीराम बिछिया शाहपुर गोरखपुर के रहने वाले आनन्द कुमार गौड़ ने शिकायत दर्ज कराई थी कि उनके बेटे अनुपम गौड़ द्वारा मेडिकल की दुकान खोलने के लिए खादय औषधि प्रशासन कार्यालय से लाईसेन्स लेने के लिए आन लाईन आवेदन किया गया था।

दुकान के लाईसंस पर रिपोर्ट लगाने के एवज़ मे खादय सुरक्षा औषधि कार्यालय का बाबू विकासदीप उनसे 40 हज़ार रूपए की रिश्वत मांग रहा है। आनन्द कुमार गौड़ की शिकायत को एसएसपी राजीव मलहोत्रा द्वारा गम्भीरता से लेते हुए भ्रष्टाचारी बाबू को रिश्वत की रकम के साथ रंगे हाथ पकड़ने के लिए गोरखपुर इकाई के इन्स्पेक्टर रामधारी मिश्रा के नेतृत्व मे ट्रैप टीम का गठन कर दिया गया।

एसएसपी राजीव मलहोत्रा द्वारा गठित की गई टीम ने बुद्धवार की दोपहर करीब डेढ़ बजे रिश्वत खोर बाबू विकासदीप को गोरखपुर में कलेक्ट्रेट स्थित खाद्य सुरक्षा औषधि प्रशासन कार्यलय से 40 हज़ार रूपए की रिश्वत के साथ उस समय रंगे हाथो गिरफ्तार किया जब उसने आनन्द कुमार गौड़ के बेटे अनुपम गौड़ के लाईसेन्स पर रिपोर्ट लगाने के लिए उनसे 40 हज़ार रूपए की रिश्वत ली।

पहले से मुस्तैद इन्स्पेक्टर रामधारी मिश्रा और उनकी टीम ने रिश्वत खोर बाबू विकासदीप को गिरफ्तार कर गोरखपुर की थाना कोतवाली पर उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज करा कर रिश्वतखोर बाबू को पुलिस के हवाले कर दिया।

हालाकि भ्रष्टाचार निवारण संगठन की टीम ने भ्रष्टाचार के समन्दर की छोटी मछली को शिकायत के आधार पर तो गिरफ्तार कर लिया है लेकिन सूत्रो के अनुसार गिरफ्तार किया गया घूसखोर बाबू विकासदीप 40 हज़ार की रिश्वत का अकेला मालिक नही था बल्कि घूस की इस रकम मे इसे कई लोगो को हिससे बाटना थे जिसके बाद ही लाईसेन्स पर रिपोर्ट लगाई जाती।

एसएसपी राजीव मल्होत्रा का कहना है कि उनकी टीमे लगातार भ्रष्टाचार के खिलाफ काम करती रहेगी भ्रष्टाचार की किसी भी शिकायत पर तत्काल कार्यवाही करते हुए भ्रष्टाचारी को गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा।

अन्य खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें

the-gandhigiri-telegram-channel