होम Crime | अपराध राजधानी लखनऊ में रिश्ते हुए शर्मसार, सामने आई हत्या की सनसनीखेज़ घटना

राजधानी लखनऊ में रिश्ते हुए शर्मसार, सामने आई हत्या की सनसनीखेज़ घटना

lucknow-hasanganj-murder
The-Gandhigiri-tg-website-designer-Developer-lucknow

लखनऊ। हसनगंज के पुरानी बांस मंड़ी मे शुक्रवार की सुबह 48 वर्षी युवक को उसके पिता, सौतेली मां और सौतेले भाई बहन ने मिल कर मौत की नींद सुला दिया। हमलावरों ने युवक के सर पर लोहे की राड से हमला किया।

घटना जिस समय हुई उस समय मृतक की पत्नी घर के उपर अपने कमरे मे मौजूद थी। पुलिस नेचरों आरोपियों को हिरासत मे लेकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

एडीसीपी प्राची सिंह का कहना है कि घटना पैसे के लेन-देन के विवाद में हुई है। सभी चार आरोपी पकड़ लिए गए है।

Shabnam case: आजाद भारत में पहली बार होगी किसी महिला को फांसी, जानिए क्या है जुर्म?

जानकारी के अनुसार जरदोज़ी के काम में इस्तेमाल की जाने वाली मुठिया बनाने का काम करने वाला 48 वर्षीय हलीम उर्फ पप्पे हसनगंज थाना क्षेत्र की पुरानी बांसमंडी में अपनी पत्नी रहनुमा के साथ रहता था।

शुक्रवार की सुबह हलीम को उसी के घर में उसके पिता नसीर उर्फ पप्पे से पैसों के लेनदेन को लेकर हुए विवाद के बाद उसकी सौतेली मां शैदा, सौतेले भाई फरहान और सौतेली बहन खुशबू से मारपीट और गाली गलौच शुरू हो गई।

बहस के दौरान उसकी पत्नी रहनुमा घर मे दूसरी मंज़िल पर बने अपने कमरे में मौजूद थी। विवाद इतना बढ़ गया कि हलीम के सौतेले भाई फरहान ने उसके सर पर लोहे के भारी भरकम राड से हमला कर दिया।

Red Fort Violence: लाल किले पर तलवार लहराने वाला कौन है मनिंदर सिंह और कैसे हिंसा में शामिल हुआ?

चीख पुकार सुन कर हलीम की पत्नी नीचे आई तो पती को लहुलुहान हालत मे पड़ा देख कर उसने शोर मचाया। रहनुमा की चीख सुन कर आसपास के लोग आए। इससे पहले की हलीम को अस्पताल पहुॅचाया जाता हलीम की मौत हो गई।

सूचना पाकर हसनगंज थाने की पुलिस और आला अफसर मौके पर पहुंचे। मृतक हलीम के शव को पोसटमार्टम के लिए भेजा। पत्नी रहनुमा की तहरीर पर हलीम के पिता नसीर उर्फ कल्लू, सौतेली मां शैदा, सौतेला भाई फरहान और सौतेली बहन खुशबू के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

पुलिस के मुताबिक पांच लाख रूपए को लेकर पिता पुत्र के बीच लंबे समय से विवाद चल रहा था। जबकि मृतक की पत्नी रहनुमा का कहना है कि उसके ससुर, सौतेली सास, देवर और ननद उसके परिवार को घर खाली करने के लिए लम्बे समय से प्रताड़ित कर रहे थे।

रहनुमा का कहना है कि लाकडाउन के दौरान भी विवाद हुआ था जिसकी शिकायत उसने मदेयगंज पुलिस चैकी पर की थी।

अन्य बड़ी खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें

the-gandhigiri-telegram-channel