Wednesday, September 22, 2021
HomePOLITICS | राजनीतिसपा से गंठबंधन पर ओवैसी की हरी झंडी, मिल कर लड़ेंगे 2022...

सपा से गंठबंधन पर ओवैसी की हरी झंडी, मिल कर लड़ेंगे 2022 चुनाव

लखनऊ: असदुद्दीन ओवैसी के नेतृत्व वाली अखिल भारतीय मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) ने ऐलान किया कि यूपी में 2022 के विधानसभा चुनाव के लिए भागीदारी संकल्प मोर्चा के एक घटक के रूप में अगर मोर्चे के संयोजक ने समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन करने का फैसला किया तो उन्हें कोई आपत्ति नहीं है।

यह पहली बार है जब उत्तर प्रदेश में एआईएमआईएम के एसपी के साथ आने की बात सामने आई है। एआईएमआईएम के राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने हाल ही में संपन्न चुनावों में एक भी मुस्लिम जिला पंचायत अध्यक्ष को निर्वाचित करने में विफल रहने के लिए सपा नेतृत्व पर हमला किया है।

AIMIM उन दस राजनीतिक दलों में से एक है, जिन्होंने सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (SBSP) के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर के नेतृत्व में भागीदारी संकल्प मोर्चा (BSM) के बैनर तले हाथ मिलाया है। एसबीएसपी पहले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) का हिस्सा था, लेकिन योगी आदित्यनाथ सरकार के साथ मतभेदों के बाद अलग हो गया।



एआईएमआईएम के प्रदेश अध्यक्ष शौकत अली ने कहा, “अगर राजभर, जो मोर्चा के संयोजक हैं, यह फैसला करते हैं कि उन्हें सपा के साथ गठबंधन करना चाहिए, तो हमारी पार्टी फैसले का पालन करेगी।”

उन्होंने कहा, “यह अच्छा है कि सपा अगले साल की शुरुआत में होने वाले विधानसभा चुनाव में भाजपा को हराने के लिए छोटे दलों से हाथ मिलाने को तैयार है। यूपी में 20% मुस्लिम आबादी है, लेकिन सरकार में प्रतिनिधित्व के मामले में समुदाय को अभी तक उसका बकाया हक़ नहीं मिला है।”

उन्होंने सवाल किया कि, “किसी भी पार्टी ने राज्य में अभी तक मुस्लिम डिप्टी सीएम की नियुक्ति क्यों नहीं की?” इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यह समय है कि सरकार में समुदाय को उचित प्रतिनिधित्व दिया जाए।

उन्होंने कहा, “2022 के चुनाव में एआईएमआईएम यूपी के मुसलमानों की आवाज होगी। हमने पहले ही संगठनात्मक ढांचा तैयार कर लिया है और राज्य के हर जिले में एक पार्टी इकाई और एक जिला प्रमुख है।”

उन्होंने कहा कि एआईएमआईएम की सरकार में मुसलमानों को पर्याप्त प्रतिनिधित्व देने की मांग अगस्त में पार्टी अध्यक्ष की राज्य की यात्रा के साथ गति पकड़ेगी।

हालांकि एआईएमआईएम के राज्य प्रमुख ओवैसी के यूपी दौरे के कार्यक्रम का ब्योरा देने को तैयार नहीं थे, लेकिन सूत्रों ने कहा कि मानसून सत्र की समाप्ति पर सांसद ओवैसी के प्रयागराज, कौशांबी और फतेहपुर का दौरा करने की योजना है।

महामारी प्रोटोकॉल के कारण प्रतिबंधों को ध्यान में रखते हुए, ओवैसी से मुस्लिम, दलित और पिछड़े वर्ग समुदायों के प्रतिष्ठित लोगों और पेशेवरों के साथ बैठकें करने की उम्मीद है।

यह शायद पहली बार है कि एआईएमआईएम के सपा के साथ होने की कोई बात हो रही है क्योंकि दोनों पार्टियां पिछले काफी समय से एक दूसरे पर सियासी हमलावर रही हैं।

हाल ही में एआईएमआईएम अध्यक्ष ने आरोप लगाया था कि 12 मौकों पर तत्कालीन अखिलेश यादव सरकार ने उन्हें 2012 से 2017 के बीच उत्तर प्रदेश का दौरा करने से रोका था।

हाल ही में, एआईएमआईएम ने घोषणा की थी कि उसने सबसे अधिक मुस्लिम आबादी वाली 100 विधानसभा सीटों पर इच्छुक उम्मीदवारों से आवेदन मांगे हैं।

Naveen Vishwakarma
Mr. Naveen Vishwakar is Indian Journalist working from Lucknow. He is working with The Gandhigiri as editor. Contact with him by thegandhigiri@gmail.com
You May Also Like This News

Latest News Update

Most Popular