होम Local | स्थानीय सपा ने पेट्रोल, डीजल, गैस की बढ़ती कीमतों के विरोध में किया...

सपा ने पेट्रोल, डीजल, गैस की बढ़ती कीमतों के विरोध में किया प्रदर्शन

94
shahjahanpur-samajwadi-party-workers-protest-against-rising-prices
The-Gandhigiri-tg-website-designer-Developer-lucknow

शाहजहांपुर/रायबरेली: प्रदेश के कई शहरों में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने डीजल-पेट्रोल और रसोई गैस की बढ़ती कीमतों के विरुध धरना-प्रदर्शन किया। वहीं, राष्ट्रपति महामहिम के नाम संबोधित ज्ञापन सौंप कर अपनी मांगे रखी।

शाहजहांपुर में सपा कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन के बाद अपने ज्ञापन में कहा कि प्रतिदिन पेट्रोल-डीजल, रसोई गैस की कीमतें बढ़ रही हैं। आसमान छूती कीमतों के कारण आवश्यक वस्तु ट्रांसपोर्ट महंगा हो गया है।

जिसके कारण कमरतोड़ महंगाई का सामना आम जनता को करना पड़ रहा है। खेती-किसानी तो पहले से ही चौपट हो गई है।

ज्ञापन में लिखा कि महंगाई बढ़ने से गन्ना फसल की लगातार लागत बहुत बढ़ गई है लेकिन सरकार ने पिछले 4 वर्षों से गन्ने का समर्थन मूल्य नहीं बढ़ाया, जिसके कारण किसानों को घाटा हो रहा है।

ज्ञापन में आरोप लगाया गया है कि प्रदेश में महिलाओं पर निरंतर अत्याचार बढ़ रहा है। बलात्कार और हत्याओं की प्रदेश में बाढ़ आ गई है। प्रदेश में कानून व्यवस्था पूर्ण रूप से ध्वस्त है।

बुलंदशहर और उन्नाव की घटना इसका ज्वलंत उदाहरण है। उन्नाव में दलित युवतियों की हत्या की सीबीआई जांच कराकर दोषियों को कठोर सजा दिलवाई जाए।

गन्ना किसानों का भुगतान विगत 1 वर्ष से मिलों पर बकाया है। भाजपा सरकार ने चुनाव के समय वादा किया था की गन्ना किसानों का बकाया भुगतान 14 दिन के अंदर कराया जाए।

रायबरेली में भी पेट्रोल-डीजल के बढ़े दामों पर सपाइयों का प्रदर्शन

कृषि कानून, बढ़ती महंगाई, बढ़ते डीजल पेट्रोल के दामों एवं बढ़े हुए बिजली के बिलों की वसूली रोकने तथा आवारा पशुओं से किसानों की खेती को बचाने के पुख्ता इंतजाम किए जाने को लेकर ब्लाक प्रमुख बछरावां विक्रांत अकेला ने सैकड़ों समाजवादी कार्यकर्ताओं के साथ तहसील परिसर में एसडीएम कार्यालय तक प्रदर्शन करते हुए सरकार विरोधी नारे लगाए। इसके बाद महामहिम राज्यपाल को संबोधित सात सूत्रीय ज्ञापन नायब तहसीलदार अभिजीत गौरव को सौंपा।

ज्ञापन में कहा है कि उत्तर प्रदेश सहित पूरे देश का किसान सरकार की किसान विरोधी नीतियों के कारण भुखमरी व बर्बादी के कगार पर पहुंच गया है। किसानों की फसलों का लागत मूल्य भी किसानों को नहीं दिया जा रहा है।

किसानों की खड़ी फसल आवारा पशुओं से बचाना मुश्किल हो गया है, तथा डीजल और पेट्रोल व रसोई गैस की बढ़ती कीमतों ने किसानों नौजवानों तथा आम जनता की कमर तोड़ कर रख दी है। वहीं महंगाई चरम सीमा पर है। चारों तरफ अफरा-तफरी का माहौल व्याप्त है। ऊपर से दलाली व रिश्वतखोरी से जनमानस त्रस्त है। प्रदेश की बेलगाम सरकार के कारण बेटियों व महिलाओं का सड़कों पर चलना दुश्वार है।

अन्य बड़ी खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें

the-gandhigiri-Whatsapp-news-Broadcast the-gandhigiri-telegram-channel