Wednesday, September 22, 2021
HomeJOBS | नौकरीराजधानी लखनऊ में दरोगा भर्ती के अभ्यर्थियों का प्रदर्शन

राजधानी लखनऊ में दरोगा भर्ती के अभ्यर्थियों का प्रदर्शन

लखनऊ। दरोगा भर्ती 2016 के अभ्यर्थियों ने मंगलवार को नियुक्ति की मांग को लेकर पुलिस भर्ती बोर्ड, आकाशवाणी के सामने प्रदर्शन किया। अभ्यर्थियों का कहना था कि ट्रेनिंग के 13 माह बाद भी उन्हें नियुक्ति नहीं दी गई है।

इनमें से तमाम ऐसे अभ्यर्थी थे जो चयन के बाद पक्की सरकारी नौकरियां छोड़कर आए थे। चयनित अभ्यर्थियों की डीजी भर्ती बार्ड से वार्ता भी हुई। प्रदर्शन के बाद पुलिस ने इन्हें ईको गार्डेन भेज दिया।

स्वास्थ्य कर्मियों की हड़ताल स्थगित

उत्तर प्रदेश में छह दिनों से चल रही स्वास्थ्य कर्मियों की हड़ताल मंगलवार दोपहर बाद स्थगित कर दी गई। अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद से वार्ता के बाद स्वास्थ्य कर्मियों ने हड़ताल स्थगित करने का निर्णय लिया। दूसरी तरफ एंबुलेंस कर्मियों की हड़ताल अब भी जारी है।



इस दौरान एस्मा लागू होने की वजह से 6 एंबुलेंस कर्मियों को बर्खास्त कर दिया गया और एंबुलेंस कर्मचारी संघ के अध्यक्ष हनुमान पांडे सहित 11 के खिलाफ एफआइआर भी दर्ज करा दी गई है। बता दें कि स्थानांतरण के मामले को लेकर स्वास्थ्य कर्मी पिछले छह दिनों से आंदोलन कर रहे थे। सोमवार को स्वास्थ्य कर्मियों ने महानिदेशालय का घेराव किया था।

यूपी मेडिकल एंड हेल्थ पब्लिक मिनिस्ट्रियल एसोसिएशन के प्रतिनिधियों से बातचीत के बाद अपर मुख्य सचिव ने विकलांग, गंभीर रोगी पदाधिकारियों का स्थानांतरण निरस्त करने का आश्वासन दिया। जिसके बाद हड़ताल स्थगित कर दी गई। एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रेम सिंह ने बताया कि सोमवार को सभी जिलों के पदाधिकारियों से बातचीत हुई। दोपहर बाद तय किया गया कि हड़ताल स्थगित की जा रही है।

वहीं, एएलएस एंबुलेंस कर्मियों के समर्थन में 108 और 102 एंबुलेंस कर्मी भी हड़ताल पर हैं। इस बीच प्रशासन ने एस्मा लागू कर दिया। इसे देखते हुए छह एंबुलेंस कर्मियों को बर्खास्त कर दिया गया। दूसरी तरफ एंबुलेंस कर्मियों का कहना है कि वे मांगे पूरी होने तक हड़ताल जारी रखेंगे। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन निदेशक ने सभी मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को पत्र भेजकर वैकल्पिक व्यवस्था करने का भी निर्देश दिया है।

मामले में एंबुलेंस कर्मचारी संघ के अध्यक्ष हनुमान पांडे सहित 11 के खिलाफ एफआइआर भी दर्ज करा दी गई है। बताया जा रहा है कि एएलएस एम्बुलेंस कर्मचारियों की मांगें पूरी किए जाने और एस्मा एक्ट लागू होने के बाद भी हड़ताल वापस न लेने और लोगों को इमरजेंसी एम्बुलेंस सेवाएं मिलने में हो रही दिक्कतों को देखते हुए एम्बुलेंस सेवा प्रदाता संस्था जीवीके ईएमआरआई ने एम्बुलेंस यूनियन पदाधिकारियों को तत्काल प्रभाव से बर्खास्त कर दिया है।

इसके साथ ही कंपनी ने कहा है कि जो भी कर्मचारी दोपहर 3 बजे तक ड्यूटी ज्वाइन नहीं करते हैं उन सभी को बर्खास्त कर दिया जाएगा। जिन कर्मचारियों को बर्खास्त किया गया है उनमें हनुमान पांडेय, सुशील पांडेय, शरद यादव, सुनील सचान, प्रवीण मिश्रा, सतेन्द्र कुमार, बृजेश कुमार, गिरजेश कुमार, जयशंकर मिश्रा, महेन्द्र सिंह, नीतीश कुमार, रितेश शुक्ला, विनय तिवारी व अन्य कई लोग हैं।

Naveen Vishwakarma
Mr. Naveen Vishwakar is Indian Journalist working from Lucknow. He is working with The Gandhigiri as editor. Contact with him by thegandhigiri@gmail.com
You May Also Like This News

Latest News Update

Most Popular