रविवार, फ़रवरी 5, 2023
होमUTTARAKHAND | उत्तराखंडUttarakhand: हरिद्वार में पीली नदी से इस तरह बचाए गए 4 श्रमिक

Uttarakhand: हरिद्वार में पीली नदी से इस तरह बचाए गए 4 श्रमिक

देहरादून: उत्तराखंड के ज्यादातर स्थानों पर लगातार बारिश होने से प्रदेश में गंगा, यमुना जैसी प्रमुख नदियों के अलावा उनकी सहायक नदियां भी उफान पर हैं। हरिद्वार जिले की पीली नदी (Yellow River) में फंसे 4 श्रमिकों को पुलिस ने तत्परता से अभियान चलाकर सुरक्षित बाहर निकाला।



डाउनलोड करें "द गांधीगिरी" ऐप और रहें सभी बड़ी खबरों से बखबर

उधर, अतिवृष्टि और आपदा राहत कार्यों में मदद के लिए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने पिथौरागढ़ में 2 महीने के लिए एक हेलीकॉप्टर तैनात करने की स्वीकृति दे दी।

पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने एक ट्वीट के माध्यम से जानकारी दी कि हरिद्वार जिले के श्यामपुर क्षेत्र में पीली नदी पर पुल निर्माण कार्य में लगे 4 श्रमिक नदी का जल स्तर बढ़ने से वहीं फंस गए।



उन्होंने बताया कि हालांकि, पुलिस ने तुरंत बचाव अभियान चलाकर क्रेन की सहायता से सभी श्रमिकों को सुरक्षित बचा लिया।

इस बीच राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र से मिली जानकारी के अनुसार, राज्य की ज्यादातर नदियां उफान पर हैं और गंगा, यमुना, भागीरथी, अलकनंदा, मंदाकिनी, पिंडर, नंदाकिनी, टोंस, सरयू, गोरी, काली, रामगंगा आदि नदियां चेतावनी स्तर से थोड़स ही नीचे बह रही हैं। इन नदियों के स्तर की सतत निगरानी की जा रही है।

देहरादून में भी शनिवार से शुरू हुआ बारिश का क्रम रूक-रूक कर लगातार जारी रहा। यहां विकासनगर में वर्षा के कारण एक पक्का मकान ढह गया जबकि परेड ग्राउंड स्थित जल संस्थान के कार्यालय परिसर में एक पेड़ गिर गया। रायपुर के कंडोली में भी वर्षा में एक झोंपडी बह गई।

हालांकि, इन घटनाओं में कोई जनहानि नहीं हुई। पिछले 24 घंटे में प्रदेश के कई स्थानों पर भारी बारिश हुई जहां रायवाला में सर्वाधिक 120 मिलीमीटर, ऋषिकेश में 105.2 मिमी, कोटद्वार में 97 मिमी, खटीमा में 83 मिमी, मोहकमपुर में 80 मिमी, मसूरी में 70 मिमी, जसपूर में 50 मिमी और सहसपुर में 43 मिमी वर्षा दर्ज की गई।

इस बीच, मुख्यमंत्री धामी ने अतिवृष्टि एवं अन्य दैवीय आपदा के समय तत्काल राहत कार्यों हेतु पिथौरागढ़ में 2 महीने के लिए एक हेलीकॉप्टर तैनाती करने की स्वीकृति प्रदान की।

उन्होंने ये भी निर्देश दिए कि जब हेलीकाप्टर की आपदा राहत कार्यों के लिए आवश्यकता न हो, तब हेलीकॉप्टर का उपयोग रियायती दरों पर भुगतान के आधार पर जन सामान्य को वैकल्पिक यातायात के रूप में उपलब्ध करवाया जाए। उन्होंने इसके किराए के लिए प्रतिव्यक्ति 3 हजार रुपए की दर भी निर्धारित कर दी है।

Desk Publisher
Desk Publisher is a authorized person of The Goandhigiri. He/She re-scrip, edit & publish the post online. Pls, contact thegandhigiri@gmail.com for any issue.
You May Also Like This News
the gandhigiri news app

Latest News Update

Most Popular