होम World | दुनिया अमेरिकी रक्षा विभाग ने चीनी सेना से जुड़े Xiaomi फोन को किया...

अमेरिकी रक्षा विभाग ने चीनी सेना से जुड़े Xiaomi फोन को किया ब्लैकलिस्ट, इंडिया में धड़ल्ले से हो रही बिक्री

us-defense-dptt-blacklist-xiaomi-phone-associated-with-chinese-army-but-india-sales-growth-increased
The-Gandhigiri-tg-website-designer-Developer-lucknow

वाशिंगटन: अमेरिकी रक्षा विभाग (US Defense Dptt.) ने चीनी सेना से जुड़े नौ और चीनी कंपनियों को ब्लैकलिस्ट (Blacklist) कर दिया, इसमें चीन की सेना द्वारा कथित रूप से स्वामित्व या नियंत्रण वाली फोन निर्माता कंपनी शाओमी (Xiaomi Phone) भी शामिल है।

रक्षा विभाग ने जून 2020 में अमेरिकी कांग्रेस को इन कंपनियों की सूची जारी किया था। यह कंपनियों की प्रारंभिक सूची है जिसका संचालन चीनी सेना द्वारा किया जा रहा था, जबकि ये असैनिक फर्मों से जुड़ी कंपनिया हैं।

दिसंबर 2020 की जारी सूची में इन कंपनियों समेत और कंपनियों को जोड़ा गया था। गुरुवार को जारी अद्यतन सूची के मुताबिक अब तक 40 से अधिक कंपनियां हैं जिन्हें ब्लैकलिस्ट किया गया है।

रक्षा विभाग ने अतिरिक्त ‘कम्युनिस्ट चीनी सैन्य कंपनियों’ के नाम जारी किए, जो कि संशोधित होते हुए। वित्तीय वर्ष 1999 के लिए राष्ट्रीय रक्षा प्राधिकरण अधिनियम की धारा 1237 की वैधानिक आवश्यकता के अनुसार संयुक्त राज्य में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से संचालित हैं।

पिछले साल नवंबर में राष्ट्रपति ट्रंप ने एक कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर किए थे। जिसने अमेरिकियों को ब्लैकलिस्टेड फर्मों में निवेश करने से रोक दिया था। आदेश के अनुसार 11 नवंबर 2021 तक इन कंपनियों के शेयरों के मालिकों को इनसे अलग होना होगा।

शाओमी के अलावा, जिन अतिरिक्त फर्मों को ब्लैकलिस्ट किया गया है, उनमें एडवांस्ड माइक्रो-फेब्रिकेशन इक्विपमेंट इंक (एएमईसी), लुओकॉन्ग टेक्नोलॉजी कॉर्पोरेशन (एलकेसीओ), बीजिंग झोंगगुंगुन डेवलपमेंट इन्वेस्टमेंट सेंटर, गोविन (जीओडबल्यूआईएन) सेमीकंडक्टर कॉर्प, ग्रैंड चाइना कंपनी (जीसीएसी), ग्लोबल टोन कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी (जीटीसीओएम), चाइना नेशनल एविएशन होल्डिंग कंपनी लिमिटेड (सीएनएएच) और कमर्शियल एयरक्राफ़्ट कॉर्पोरेशन ऑफ़ चाइना (सीओएमएसी) शामिल हैं।

अमेरिका रक्षा विभाग ने अपने बयान में कहा, ‘विभाग पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना (पीआरसी) सैन्य-नागरिक संलयन विकास रणनीति को उजागर करने और उसका मुकाबला करने के लिए दृढ़ संकल्पित है, जो उन्नत तकनीकों और विशेषज्ञता हासिल करने और विकसित करने और विकसित करने के लिए पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के आधुनिकीकरण लक्ष्यों का समर्थन करता है। यहां तक कि उन पीआरसी कंपनियों, विश्वविद्यालयों और शोध कार्यक्रमों में नागरिक संस्थाएं दिखाई देती हैं।’

बता दें कि, जहां एक ओर सुरक्षा के लिहाज से अमेरिकी रक्षा विभाग (US Defense Dptt.) ने शाओमी फोन (Xiaomi Phone) को भले ही ब्लैकलिस्ट (Blacklist) कर दिया है, लेकिन भारत (India) में शाओमी/एमआई फोन नंबर वन सेल पर पहुंच चुका है।

 


गौरतलब है कि, हालही में सीमा विवाद को लेकर मोदी सरकार ने चीनी एप और व्यापार पर बैन लगा दिया था। इस दौरान शाओमी/एमआई के भारतीय सीईओ मनु कुमार जैन के एक विवादित बयान पर अखिल भारतीय व्यापारी परिसंघ (Confederation of All India Traders) ने कड़ी निंदा की थी।

अन्य बड़ी खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें

the-gandhigiri-telegram-channel